उत्तराखंड भाजपा कार्यालय में तोड़फोड़, भड़की विरोध की चिंगारी

दिल्ली में भारी बारिश की वजह से संसद भवन परिसर में भरा पानी, उत्तराखंड में बादल फटने से 2 की मौत

उत्तराखंड: चमोली में बरसी आसमानी आफत, बादल फटने से कई दुकानें और गाड़ियां क्षतिग्रस्त, भारी बारिश की चेतावनी

उत्तराखंड: पिथौरागढ़ में मूसलाधार बारिश से भारी नुकसान, हाइड्रो प्रोजेक्ट बहा, दर्जनों मकान ढहे

उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल में बस के गहरी खाई में गिरने से 48 की मौत, हादसे की असली वजह आई सामने

जनता दरबार में बुजुर्ग शिक्षिका ने मांगा ट्रांसफर, वाद-विवाद के बीच भड़के सीएम ने कर दिया सस्पेंड

यह अकेली लड़की पढ़ती है 250 लड़कों के बीच, इस वजह से लड़कियों के स्कूल में नहीं मिला एडमिशन

2017-01-24_100-bjp_5-uttarakhand.jpg

टिकट बंटवारे के बाद भाजपा में विरोध की जो चिंगारी सुलगनी शुरू हुई है उसकी आग मंगलवार को पार्टी प्रदेश कार्यालय तक पहुंच गई। धर्मपुर विधानसभा सीट से भाजपा महानगर अध्यक्ष उमेश अग्रवाल और क्लेमेंटटाउन कैंट बोर्ड के पूर्व उपाध्यक्ष भूपेंद्र कंडारी को टिकट नहीं दिए जाने के विरोध में उनके समर्थकों ने पार्टी प्रदेश कार्यालय पर जमकर प्रदर्शन किया।

राज्य में 15 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिये पार्टी ने धर्मपुर सीट से टिकट के प्रबल दावेदार रहे उमेश अग्रवाल के स्थान पर देहरादून के मेयर विनोद चमोली को चुनावी समर में उतारा है।

अग्रवाल के आक्रोशित समर्थक आज दोपहर पार्टी मुख्यालय में घुसे और चमोली के खिलाफ नारे लगाने लगे। अग्रवाल को टिकट नहीं मिलने को अपने नेता के प्रति ‘‘अन्याय’’ बताते हुए कुछ समर्थक छत पर चढ़ गये और प्रधानमंत्री मोदी, पार्टी अध्यक्ष शाह, उत्तराखंड पार्टी अध्यक्ष अजय भट्ट और प्रदेश में पार्टी मामलों के प्रभारी महासचिव श्याम जाजू के चित्रों वाले बड़े पोस्टर को फाड़ डाला।

हालांकि, पार्टी नेताओं ने घटना को ज्यादा तूल नहीं देते हुए कहा कि यह केवल एक त्वरित प्रतिक्रिया है और जल्दी सब ठीक हो जायेगा।

प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी देवेन्द्र भसीन ने कहा, ‘‘यह तात्कालिक प्रतिक्रिया है। जल्दी सब ठीक हो जायेगा और सभी पार्टी प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित करने के लिये काम करेंगे।’’ इस बीच, अग्रवाल ने इस बात का खंडन किया कि पार्टी मुख्यालय में पोस्टर फाड़ने वाले उनके समर्थक थे। उन्होंने कहा, ‘‘मेरे समर्थक ऐसा नहीं कर सकते। भाजपा प्रदेश मुख्यालय में घुसने और वहां बवाल करने वाले लोग कांग्रेस कार्यकर्ता थे जो पार्टी की छवि को खराब करना चाहते थे।’’ भसीन ने कहा कि हंगामा करने वालों की पहचान के लिये सीसीटीवी फुटेज को देखा जा रहा है।

भाजपा तथा कांग्रेस दोनों बड़े राजनीतिक दल इन दिनों टिकट वितरण के बाद इस दौड़ में पीछे रह गये दावेदारों में उपजे असंतोष से ग्रस्त हैं और उन्हें शांत करने के प्रयासों में जुटे हैं।

पिछले दो दिनों से कांग्रेस मुख्यालय में भी ऐसे ही दृश्य देखने को मिल रहे हैं जहां देहरादून जिले की सहसपुर सीट से टिकट न मिल पाने से आक्रोशित आयेंद्र शर्मा के समर्थकों ने हंगामा करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के चित्र लगे पोस्टर फाड़े तथा कुर्सियां तोड़ दीं। सहसपुर सीट से उपाध्याय स्वयं कांग्रेस के प्रत्याशी हैं।



loading...