हरिद्वार, ऋषिकेश में प्लास्टिक बैन, उल्लंघन पर 5 हज़ार का जुर्माना- NGT का आदेश

उत्तराखंड में अगले 24 घंटे भारी बारिश की चेतावनी, प्रशासन ने सतर्क रहने के दिए आदेश

गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने वाला पहला राज्य बना उत्तराखंड, विपक्ष ने किया समर्थन

उत्तराखंड के टिहरी में बादल फटने से भारी तबाही, 8 लोग मलबे में दबे, 4 के शव निकाले

यूपी के बाद अब उत्तराखंड में भी पॉलीथिन के इस्तेमाल पर लगा बैन, सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दिए आदेश

दिल्ली में भारी बारिश की वजह से संसद भवन परिसर में भरा पानी, उत्तराखंड में बादल फटने से 2 की मौत

उत्तराखंड: चमोली में बरसी आसमानी आफत, बादल फटने से कई दुकानें और गाड़ियां क्षतिग्रस्त, भारी बारिश की चेतावनी

2017-12-15_Blanket-ban-on-plastic-items.jpg

नेशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) ने हरिद्वार और ऋषिकेश में प्लास्टिक की थैलियों, प्लेटों व कटलरी जैसे प्लास्टिक से बने सामान के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है. एनजीटी ने हरिद्वार और ऋषिकेश में प्लास्टिक के सामानों की बिक्री, निर्माण और भंडारण पर भी प्रतिबंध लगाया है. इस आदेश का उल्लंघन करने वालों पर 5 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. 

इससे पहले एनजीटी ने अमरनाथ गुफा को शांत क्षेत्र घोषित करते हुए एक निश्चित सीमा से आगे जयकारे लगाने पर रोक लगा दी थी. एनजीटी ने दक्षिण कश्मीर हिमालय में स्थित अमरनाथ गुफा श्राइन की पर्यावरण-संवेदनशीलता को बनाये रखने के लिए इसे मौन क्षेत्र घोषित कर दिया और प्रवेश बिंदु से आगे धार्मिक रस्मों पर पाबंदी लगा दी.

अमरनाथ श्राइन बोर्ड को इस आदेश का पालन सुनिश्चित करने का निर्देश देते हुए एनजीटी प्रमुख जस्टिस स्वतंत्र कुमार की पीठ ने कहा कि बोर्ड गुफा के आसपास पर्याप्त बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने के साथ-साथ यह सुनिश्चित करेगा कि कोई भी दर्शनार्थी पवित्र हिमलिंग के दर्शन से वंचित न रहने पाए तथा भजन-कीर्तन और जयकारों के कारण गुफा की शांति तथा पारिस्थितिकी संतुलन न भंग होने पाए.



loading...