ताज़ा खबर

GST में हैं बड़ी खामियां, देश जेटली से हक से इस्तीफा मांग सकता है : यशवंत सिन्हा

CBI vs CBI: सुप्रीमकोर्ट की सख्ती पर आलोक वर्मा ने सीलबंद लिफाफे में दाखिल किया जवाब, कल होगी सुनवाई

गुजरात दंगा: पीएम मोदी के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर अब 26 नवंबर को सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

CBI विवाद: आलोक वर्मा से सुप्रीमकोर्ट ने जल्द से जल्द जवाब दाखिल करने को बोला, मंगलवार को निर्धारित सुनवाई नहीं टलेगी

सरकार बनाम RBI: मुंबई में आरबीआई बोर्ड की मीटिंग जारी, राहुल गांधी बोले- उम्मीद है मोदी को उनकी जगह दिखायेंगे उर्जित

अमृतसर ब्लास्ट: सेना प्रमुख पर दिए बयान को लेकर 'AAP' नेता फुल्का का यूटर्न, कहा- इसके लिए मुझे खेद है

1971 में पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ने वाले महावीर चक्र विजेता ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी नहीं रहे

2017-11-15_yashwant54.jpg

अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर अपनी ही सरकार पर निशाना साध रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर वित्त मंत्री अरुण जेटली पर प्रहार किया है. उन्होंने कहा है कि खामियों भरे GST को लागू करने के लिए देश जेटली के इस्तीफे की मांग कर सकता है. वह मानते हैं कि जेटली गुजरात के लोगों के लिए एक बोझ हैं. दरअसल, जेटली गुजरात से ही राज्यसभा के सदस्य हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने GST के हर पहलू पर अच्छे से विचार किए बिना ही उसे लागू कर दिया. पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को बहुत ही कम वक्त में नोटबंदी और GST के रूप में 2 बड़े झटके दिए गए. ‘लोकशाही बचाओ आंदोलन’ के कार्यकर्ताओं के न्यौते पर सिन्हा विधानसभा चुनाव की ओर बढ़ रहे गुजरात पहुंचे हैं. उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था और GST व नोटबंदी के असर पर खुलकर अपने विचार रखे. 

वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि हमारे वित्त मंत्री गुजरात से नहीं हैं, लेकिन वह गुजरात से राज्यसभा के लिए चुने गए हैं. वह गुजरात के लोगों पर एक बोझ की तरह हैं. अगर उन्हें यहां से नहीं चुना जाता तो किसी गुजराती को यह मौका मिलता. उन्होंने कहा कि वित्तमंत्री को लगता है कि एक ही व्यक्ति शासन कर सकता है. यह चिट भी मेरी पट भी मेरी जैसा है. जेटली हर चीज का श्रेय ले रहे हैं. यहां तक कि उसका भी जिसे सही तरीके से लागू नहीं किया गया. 

वरिष्ठ नेता ने कहा कि वह देश को एक खामियों से भरी कर व्यवस्था में डालने का श्रेय नहीं ले सकते. इस देश के लोग पूरे हक से उनका इस्तीफा मांग सकते हैं.



loading...