ताज़ा खबर

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी को एक और बड़ा झटका, दिनाजपुर जिला परिषद पर बीजेपी का कब्जा

2019-06-25_Bengal.jpg

लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) को बड़ा झटका देने वाली भारतीय जनता पार्टी (BJP) का सियासी कद राज्य में लगातार बढ़ रहा है. एक के बाद एक तृणमूल समर्थकों के पार्टी छोड़ने से बंगाल में राजनीतिक हलचल थमने का नाम नहीं ले रही है. तृणमूल प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की लगातार कोशिशों के बाद भी उनकी पार्टी के नेता दिनों-दिन भाजपा में शामिल हो रहे हैं. एक तरफ भाजपा जहां तृणमूल कांग्रेस के विधायकों को अपने पाले में करने में जुटी है, वहीं दूसरी ओर राज्य के विभिन्न निकायों पर भी वह काबिज होती जा रही है.

लोकसभा चुनावों के नतीजे आते ही जहां तृणमूल के तीन विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ले ली थी, वहीं यह क्रम अब भी जारी है. बीते सोमवार को भी तृणमूल कांग्रेस के एक विधायक ने पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा ज्वाइन कर ली. इधर, भाजपा ने दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद पर अपना नियंत्रण कर लिया है. यह भी सत्तारूढ़ दल के लिए बड़े झटके से कम नहीं है. आपको बता दें कि तृणमूल कांग्रेस के एक विधायक समेत कई सदस्यों के भाजपा में शामिल होने से भगवा दल ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद पर अपना नियंत्रण कायम कर लिया.

दक्षिण दिनाजपुर जिले में तृणमूल कांग्रेस को झटका देते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता बिप्लब मित्रा भी भाजपा में शामिल हो गए. मित्रा के अलावा, दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद के 18 में से 10 सदस्य और तृणमूल कांग्रेस के विधायक विल्सन चांपरामेरी दिल्ली में भाजपा में शामिल हो गए. दिल्ली में भाजपा मुख्यालय में पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय, पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष तथा पार्टी महासचिव और राज्य के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय की मौजूदगी में तृणमूल कांग्रेस के नेता पार्टी में शामिल हुए.

तीन बार के विधायक विल्सन चांपरामेरी पश्चिम बंगाल में कलचीनी विधानसभा का प्रतिनिधित्व करते हैं. हाल में भाजपा में शामिल होने वाले चांपरामैरी तृणमूल कांग्रेस के पांचवें विधायक हैं. इसके अलावा, माकपा का एक और कांग्रेस का एक विधायक भी भगवा दल में शामिल हो चुका है. मुकुल रॉय ने तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के भाजपा में शामिल होने को ‘भूकंप’ करार देते हुए कहा कि दक्षिण दिनाजपुर की जिला परिषद की अध्यक्ष लिपिका रॉय समेत इसके लगभग सभी सदस्य पार्टी में शामिल हो गए. मित्रा ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस ‘निरंकुश तरीके’ से काम कर रही है और इसका लोगों से संपर्क खत्म हो गया है. घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता फरहाद हाकिम ने कहा कि भाजपा में शामिल होने वाले लोग मौकापरस्त हैं और आने वाले दिनों में वे पछताएंगे.



loading...