बीजेपी नेताओं के निधन पर सांसद साध्वी प्रज्ञा ने कहा- ‘विपक्ष कर रहा है स्मारक शक्ति का प्रयोग’

मध्यप्रदेश के ग्वालियर में सिलिंडर ब्लास्ट में एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत, 6 घायल

मध्यप्रदेश: इंदौर के 5 स्टार होटल में लगी भीषण आग, मौके पर फायर ब्रिगेड की कई गाड़ियां मौजूद

मध्यप्रदेश के होशंगाबाद में बड़ा दर्दनाक सड़क हादसा, कार दुर्घटना में राष्ट्रीय स्तर के 4 हॉकी खिलाड़ियों की मौत

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सीएम कमलनाथ पर साधा निशाना, बोले- अब तक किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ

मध्यप्रदेश के रायसेन में बड़ा दर्दनाक हादसा, तेज रफ़्तार बस नदी में गिरी, 6 की मौत, 37 लोग घायल

मध्य प्रदेश के ग्‍वालियर में वायुसेना का मिग-21 लड़ाकू विमान क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित

2019-08-26_SadhviPragya.jpg

अपने विवादित बोलों के कारण आलोचनाओं में घिरी रहने वाली भोपाल से बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक बार फिर अपने बेतुके बयान के चलते चर्चा में बनी हुई हैं. पू्र्व वित्त मंत्री अरुण जेटली और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर की श्रद्धांजलि सभा में पहुंची सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने विपक्ष पर मारक शक्ति का इस्तेमाल करने का शक जाहिर किया है. सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने एक किस्सा सुनाते हुए कहा मैं जब चुनाव लड़ रही थी तब एक महाराज जी मेरे पास आए थे. जिन्होंने कहा था बहुत बुरा समय चल रहा है. विपक्ष एक मारक शक्ति का प्रयोग आपकी पार्टी और उसके नेताओ के लिए कर रहा है. ऐसे में आप सावधान रहें.

सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने आगे कहा कि 'बाबा ने बताया था कि यह मारक शक्ति भाजपा के कर्मठ, योग्य और पार्टी को संभालने वाले लोगों पर असर करेगा. उनको यह गहरी हानि पहुंचा सकता है. आप विपक्ष का निशाना हैं, इसलिए सावधान रहें और ध्यान रखिएगा. हालांकि, भीड़-भाड़ के चलते मैंने उन महाराज की बात सुनी और भूल भी गई, लेकिन अब जब देखती हूं तो पता चलता है कि वास्तव में पार्टी के शीर्ष नेता बाबूलाल गौर जी, अरुण जेटली जी और सुषमा स्वराज जी पीड़ा सहते हुए गए हैं. यह देखते हुए ऐसा लगता है कि कहीं जो महाराज जी ने कहा था वह सब सच तो नहीं है.'

साध्वी प्रज्ञा ने विपक्ष पर मारक शक्ति का प्रयोग किए जाने का शक जाहिर करते हुए कहा कि 'आज हमारे बीच से हमारा नेतृत्व लगातार जा रहा है. भले आप विश्वास करें, या ना करें, लेकिन सच तो यही है.' आपको बता दें बीते शनिवार को 66 वर्षीय पूर्व वित्त मंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता रहे अरुण जेटली का अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में निधन हो गया था. जेटली बीते 9 अगस्त से सांस लेने में तकलीफ के चलते दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती थे, जहां स्वास्थ्य में सुधार नहीं होने के बाद उन्हें एक्‍स्‍ट्राकारपोरल मेंब्रेन ऑक्‍सीजनेशन (ECMO) और इंट्रा ऐरोटिक बैलून (IABP) सपोर्ट पर रखा गया था.


 



loading...