बंगाल हिंसा पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले अमित शाह, कल अगर CPRF न होती तो मेरा बचकर निकलना मुश्किल था

सारदा चिटफंट घोटाला: सुप्रीम कोर्ट से पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को बड़ा झटका, गिरफ्तारी पर लगी रोक हटाई

पश्चिम बंगाल में नहीं थम रही हिंसा, अब बीजेपी नेता मुकुल राय की गाड़ी पर पर हमला, केंद्रीय बलों की 800 कंपनियां तैनात

पश्चिम बंगाल: डायमंड हार्बर रैली में ममता बनर्जी ने कहा- 5 साल में पीएम एक राम मंदिर नहीं बनवा सके और विद्यासागर की मूर्ति बनवाना चाह रहे हैं

पश्चिम बंगाल: मथुरापुर रैली में पीएम मोदी ने ममता बनर्जी पर बोला हमला, कहा- दीदी अब खुलेआम धमकी दे रही हैं

ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, कहा- TMC के हिंसा में शामिल होने के सबूत दें, वरना जेल में डाल दूंगी

बंगाल हिंसा पर ममता को मिला मायावती का साथ, कहा- पीएम के दबाव में चुनाव आयोग ने घटाया समय

2019-05-15_AmitShah.jpg

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान मंगलवार को हुई हिंसा को लेकर देश की राजनीति गर्मा गई है. बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने कोलकाता में रोड शो के दौरान हुई हिंसा में तृणमूल कांग्रेस समर्थकों का हाथ बताया है. अमित शाह ने प्रेस कांफ्रेंस में ममता बनर्जी पर बीजेपी पर हिंसा करने का आरोप लगाया है. शाह ने कहा, मैं ममता जी को बताना चाहता हूं कि आप सिर्फ 42 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं और बीजेपी देश के सभी राज्यों में चुनाव लड़ रही है. मगर कहीं पर भी हिंसा नहीं हुई, लेकिन बंगाल में हर चरण में हिंसा हुई इसका साफ मतलब है कि हिंसा टीएमसी कर रही है. बंगाल में लोकतंत्र का गला घोटा जा रहा है.

अमित शाह ने कहा, कल अगर सीआरपीएफ न होती तो मेरा बचकर निकलना मुश्किल था, मैं सौभाग्य से बचकर आया हूं. अमित शाह ने कहा कि हार से घबराकर हिंसा करवा रही हैं ममता बनर्जी. उन्होंने कहा कि ईश्वरचंद विद्यासगर की मूर्ति बीजेपी ने नहीं तोड़ी है. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग गड़बड़ी करने वालों पर सख्ती क्यों नहीं कर रहा है. ममता की धमकी पर चुनाव आयोग ने एक्शन क्यों नहीं लिया. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, बंगाल में एक भी हिस्ट्रीशीटर को नहीं पकड़ा गया.

इससे पहले अमित शाह के मंगलवार को कोलकाता में हुए विशाल रोड शो के दौरान बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं. हालांकि, शाह को किसी तरह की चोट नहीं आई और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले गई. अधिकारियों ने बताया कि शहर के कुछ हिस्सों में हिंसा भड़क उठी जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर पथराव किया जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई.

गुस्साए भाजपा समर्थकों ने भी उसी तरह प्रतिक्रिया दी और कॉलेज के प्रवेशद्वार के बाहर टीएमसी प्रतिद्वंद्वियों के साथ मारपीट करते नजर आए. बाहर खड़ी कई मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया गया. ईश्वर चंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा भी झड़प के दौरान तोड़ दी गई. पुलिसकर्मी पानी भरी बाल्टियों से आग बुझाने की कोशिश करते देखे गए.



loading...