2 माह के जिस बेटे को डॉक्टरों ने बताया बेटी, 10 साल बाद सर्जरी से बदलेंगे जननांग

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा- मोदी सरकार जवानों की सहादत को व्यर्थ नहीं जाने देगी

बीकानेर जमीन घोटाले में दूसरे दिन वाड्रा से ED की पूछताछ शुरू, प्रियंका वाड्रा ने कही ये बात

आरक्षण की मांग को लेकर पांचवे दिन भी गुर्जर समाज का आंदोलन जारी, रेल सेवा के साथ बस यातायात भी प्रभावित

राजस्थान में उग्र हुआ गुर्जर आंदोलन, रेलवे ट्रैक पर धरना जारी, झुकने को तैयार नहीं बैसला

राजस्थान: आरक्षण की मांग को लेकर दूसरे दिन भी गुर्जर समाज का आंदोलन जारी, 5 ट्रेनें रदद्, कई के रूट बदले

राजस्थान में राहुल गांधी ने कहा- केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनी तो देशभर के किसानों का कर्जा माफ करेंगे

2018-09-19_organschanged.jpg

विक्रम (बदला हुआ नाम) का दो महीने का बेटा जन्म के बाद से ही बार-बार बीमार हो रहा था. उसे उल्टी-दस्त होते थे. बीकानेर के डॉक्टर सामान्य इलाज करते रहे. तबीयत बिगड़ती गई तो हार्मोन की जांच करवाई. इससे पता चला कि वह एक अंग को छोड़कर पूरी तरह लड़की है.

छह महीनों में देश में ऐसा तीसरा मामला सामने आया है. इनमें से एक 14 साल का लड़का था. वह कैंसर का इलाज करवाने उत्तरप्रदेश से बीकानेर आया था. डॉ. जितेंद्र नागल ने बताया कि इलाज के बाद उसका कैंसर ठीक हो गया. अब वह खुद को हालात के मुताबिक ढाल रहा है. तीसरे बच्चे की इलाज के दौरान मौत हो गई थी.

क्या यही बच्चे बनते हैं समलैंगिक?
डॉ. तंवर: हां. ऐसा हो सकता है. इसकी वजह यह है कि ये लोग बाहर से दिखने में जो होते हैं, अंदर से उसके विपरीत होते हैं. वे वास्तव में प्रतिकूल लिंग की तरफ ही आकर्षित हो रहे होते हैं, लेकिन हमें समलैंगिक लगते हैं.

क्या ऐसी बीमारी से ही समलैंगिक होते हैं?
डॉ. तंवर: बिलकुल नहीं. यह सिर्फ एक वजह है. इसके अलावा भी बहुत सारे कारण हो सकते हैं.



loading...