भोपाल गैंगरेप रिपोर्ट में हुई भयंकर गलती, बताया 'सहमति से बना संबंध'

भय्यू महाराज ने ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर की थी आत्महत्या, 3 लोग गिरफ्तार

कर्नाटक के बाद अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस हुई सतर्क, बीजेपी नेता ने कहा- जब तक मंत्रियों के बंगले पुतेंगे कांग्रेस सरकार गिर जाएगी

मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष बने एनपी प्रजापति, बीजेपी के गोपाल भार्गव बने नेता प्रतिपक्ष

मध्यप्रदेश: पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अन्य नेताओं संग मंत्रालय के बाहर गाया ‘वंदे मातरम्’

मध्यप्रदेश: ‘वंदे मातरम’ पर मचे हंगामे को लेकर कमलनाथ सरकार ने लिया यूटर्न, अब कर्मचारियों के साथ आम नागरिक भी होंगे शामिल

मध्‍यप्रदेश में ‘वंदे मातरम’ पर रार, शिवराज सिंह ने सरकार पर साधा निशाना, CM कमलनाथ ने रोक पर दी सफाई

2017-11-09_Bhopal-gang-rape-madhya-pradesh.jpeg

भोपाल में छात्रा से गैंगरेप के मामले में बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। मेडिकल रिपोर्ट में गैंगरेप होने की पुष्टि नहीं की गई है। इसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया है। 

दरअसल  सुल्तानिया लेडी अस्पताल में गैंगरेप पीड़िता की मेडिकल जांच हुई थी। अस्पताल ने अपनी रिपोर्ट में लिखा था कि छात्रा ने आरोपियों के साथ आपसी सहमति से यौन संबंध बनाए थे। लेकिन जब मामला सुर्खियों में आ गया तब जाकर अस्पताल प्रशासन ने अपनी रिपोर्ट में सुधार किया।

अस्पताल के डॉ. करन पीपरे के मुताबिक रिपोर्ट एक नए डॉक्टर ने बनाई थी और उसने लिखने में गलती की थी। अब रिपोर्ट में सुधार कर इसे दोबारा जारी किया जा रहा है।

गौरतलब है कि 31 अक्टूबर की शाम कोचिंग सेंटर से हबीबगंज जा रही 19 साल की छात्रा के साथ चार लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया था। 

गैंगरेप की रिपोर्ट को लेकर पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठे ‌थे, जिसने केस को फिल्मी मानते हुए एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया था। शिकायत करने के 24 घंटे बाद केस दर्ज हुआ था। मामले में पुलिस की फजीहत को देखते हुए इस लापरवाही के लिए कई पुलिसवालों को सस्पेंड भी किया गया था।



loading...