भय्यूजी आत्महत्या: मामले में आया नया मोड़, मरने से पहले करदी थी सारी प्रॉपर्टी सेवादार के नाम

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने के दावा किया पेश, राजस्थान में सीएम का फैसला आलाकमान पर छोड़ा फैसला

बसपा प्रमुख का ऐलान, राजस्थान, मध्यप्रदेश में कांग्रेस को समर्थन

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव परिणाम: 114 सीट जीत कर सबसे बड़ी पार्टी बनी कांग्रेस, सरकार बनाने के लिए 2 सीटों की जरूरत

मध्यप्रदेश चुनाव परिणाम: शुरूआती रुझानों में कांग्रेस को बहुमत

चुनाव आयोग ने काउंटिंग हॉल में लगाए CCTV, वाईफाई और वेबकास्टिंग पर लगी रोक

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव: शाम 6 बजे तक 74.61 फीसदी मतदान, इंदौर और गुना में चुनावी ड्यूटी के दौरान 3 अधिकारियों की मौत

2018-06-13_secondsuicidenote.jpg

आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज की सुसाइड के केस में एक नया मोड़ आ गया है. उनकी मौत के बाद अब एक और लैटर सामने आया है जिसमें उन्होंने अपनी सारी प्रॉपर्टी अपने सेवादार विनायक के नाम करदी. भय्यूजी ने अपनी सारी संपत्ति अपने सबसे करीबी रहे सेवादार विनायक के नाम की है. नोट में भय्यूजी ने लिखा है कि मेरी सारी आर्थिक शक्तियां, प्रॉपर्टीज, बैंक अकाउंट्स की सारी जिम्मेदारी मेरे मरने के बाद विनायक संभालेगा. मैं विनायक पर ट्रस्ट करता हूं. इसलिए उसे ये सारी जिम्मेदारी देकर जा रहा हूं और ये मैं बिना किसी दबाव के लिख रहा हूं. 

अवगत हो कि पहली बार देखने पर इस सुसाइड नोट और पुलिस को मिले पहले नोट में अंतर दिखाई दे रहा है. विनायक पिछले 15 सालों से भय्यूजी महाराज की सेवा करता आया है. जब भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारी थी उस समय सेवादार विनायक भी घर में मौजूद था. ज्ञात हो कि इस सुसाइड नोट के अलावा पुलिस को भैय्यूजी की डेड बॉडी के पास से रिवॉल्वर, मोबाइल, टैब, लैपटॉप, फोन सहित 7 गैजेट्स मिले थे.

आपको बता दें कि इससे पहले पुलिस को भय्यूजी की पॉकेट डायरी से डेढ़ पेज का एक और सुसाइड नोट मिला था, जो अंग्रेजी में है उसमें पारिवारिक कलह का जिक्र करते हुए उन्होंने खुद को बेहद तनाव मे होना बताया है. 2015 में उनकी पहली पत्नी माधवी की मृत्यु हो जाने से वह अकेलेपन के शिकार हो गये थे हालांकि उनकी माधवी से एक बेटी थी.



loading...