भय्यूजी आत्महत्या: मामले में आया नया मोड़, मरने से पहले करदी थी सारी प्रॉपर्टी सेवादार के नाम

दिग्वजिय सिंह का छलका दर्द, कहा- मेरे भाषण देने से कांग्रेस के वोट कटते हैं, इसलिए किसी रैली या जनसभा में नहीं जाता

मध्यप्रदेश में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा- कांग्रेस को मूल समेत उखाड़ फेंकना है

मध्यप्रदेश में बोले राहुल गांधी, चौकीदार ने चोरी करवा दी, पीएम मोदी ने यह नहीं बताया बेटी किससे बचानी हैं

भोपाल: भाजपा महाकुम्भ में बोले पीएम मोदी, बोझ बन गई है कांग्रेस, देश के बाहर कर रही है गठबंधन

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बन रहे घरों से PM मोदी और शिवराज की फोटो हटाने के आदेश

मध्यप्रदेश: विधानसभा चुनाव से पहले इन प्रस्तावों पर लगी मुहर, 7 नई तहसीलों का होगा गठन

2018-06-13_secondsuicidenote.jpg

आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज की सुसाइड के केस में एक नया मोड़ आ गया है. उनकी मौत के बाद अब एक और लैटर सामने आया है जिसमें उन्होंने अपनी सारी प्रॉपर्टी अपने सेवादार विनायक के नाम करदी. भय्यूजी ने अपनी सारी संपत्ति अपने सबसे करीबी रहे सेवादार विनायक के नाम की है. नोट में भय्यूजी ने लिखा है कि मेरी सारी आर्थिक शक्तियां, प्रॉपर्टीज, बैंक अकाउंट्स की सारी जिम्मेदारी मेरे मरने के बाद विनायक संभालेगा. मैं विनायक पर ट्रस्ट करता हूं. इसलिए उसे ये सारी जिम्मेदारी देकर जा रहा हूं और ये मैं बिना किसी दबाव के लिख रहा हूं. 

अवगत हो कि पहली बार देखने पर इस सुसाइड नोट और पुलिस को मिले पहले नोट में अंतर दिखाई दे रहा है. विनायक पिछले 15 सालों से भय्यूजी महाराज की सेवा करता आया है. जब भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारी थी उस समय सेवादार विनायक भी घर में मौजूद था. ज्ञात हो कि इस सुसाइड नोट के अलावा पुलिस को भैय्यूजी की डेड बॉडी के पास से रिवॉल्वर, मोबाइल, टैब, लैपटॉप, फोन सहित 7 गैजेट्स मिले थे.

आपको बता दें कि इससे पहले पुलिस को भय्यूजी की पॉकेट डायरी से डेढ़ पेज का एक और सुसाइड नोट मिला था, जो अंग्रेजी में है उसमें पारिवारिक कलह का जिक्र करते हुए उन्होंने खुद को बेहद तनाव मे होना बताया है. 2015 में उनकी पहली पत्नी माधवी की मृत्यु हो जाने से वह अकेलेपन के शिकार हो गये थे हालांकि उनकी माधवी से एक बेटी थी.



loading...