ताज़ा खबर

यूपी में सपा-बसपा के गठबंधन का ममता बनर्जी ने ट्वीट कर किया स्वागत, सीएम योगी ने कहा- ये भष्टाचार बढ़ाने वाला गठबंधन

ईवीएम हैकिंग को लेकर कांग्रेस पर बीजेपी ने साधा निशाना, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पूछा, प्रेस कांफ्रेंस में कपिल सिब्बल क्या कर रहे थे

सिलवासा से पीएम मोदी ने ममता की रैली पर साधा निशाना, कहा- यह गठबंधन मेरे खिलाफ नहीं, देश की जनता के खिलाफ है

चुनाव आयोग मार्च के पहले सप्ताह में कर सकता है लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान

प्रयागराज कुंभ: सपरिवार सहित गंगा आरती में शामिल हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, लोगों को दी शुभकामनाएं

एनडीए सरकार का किसान राहत पैकेज पर काम शुरु, मिलेगा 3 लाख रुपए तक का बिना ब्याज, बिना शर्त के लोन

सपा-बसपा के गठबंधन पर रविशंकर प्रसाद ने कहा- अपने अस्तित्व को बचाने के लिए साथ आए बूआ और बबूआ

2019-01-12_yogiandmamta.jpg

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले उत्तर प्रदेश में शनिवार को बने सपा-बसपा गठबंधन का स्वागत किया. ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, “आगामी लोकसभा चुनावों से पहले सपा और बसपा के गठबंधन का मैं स्वागत करती हूं.” तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष भाजपा की मुखर आलोचक रही हैं. आगामी लोकसभा चुनावों में भाजपा से मुकाबले के लिए विपक्षी गठबंधन के निर्माण की कोशिश में वह पिछले एक साल से देश में भ्रमण कर रही हैं. 

इससे पहले बनर्जी ने अहम माने जाने वाले उत्तर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश से भाजपा को उखाड़ फेंकने के लिये समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन का सुझाव दिया था. उत्तर प्रदेश से संसद के निचले सदन में 80 सांसद चुनकर आते हैं. लखनऊ में शनिवार को बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 2019 लोकसभा चुनावों के लिए उत्तर प्रदेश में अपने गठबंधन की घोषणा की.

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सपा-बसपा के साथ आने को भ्रष्‍टाचार बढ़ाने वाला गठबंधन कहा है. भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय अधिवेशन के दौरान बोलते हुए आदित्‍यनाथ ने कहा कि ये जातिवाद का गठबंधन है. जो लोग एक दूसरे को देखना नहीं चाहते थे, आमने सामने आने पर भी सामान्य शिष्टाचार भी नहीं दिखाते थे आज मोदी जी के डर से एक हो गए हैं. उन्‍होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा की सरकार रही है लेकिन गरीबों की स्थिति नहीं बदली. योगी ने कहा एक कहावत है चांदनी रात चोरों को अच्छी नहीं लगती है, इसलिए इन सभी को मोदी सरकार अच्छी नहीं लग रही है.

आपको बता दें कि सपा और बसपा आगामी लोकसभा चुनाव में गठबंधन के तहत उत्तर प्रदेश की 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. दो सीटें छोटी पार्टियों के लिए छोड़ी गई हैं जबकि अमेठी और रायबरेली की दो सीटें कांग्रेस पार्टी के लिए छोड़ना तय किया गया है. 



loading...