ताज़ा खबर

कर्नाटक में बीजेपी के विधायक ने दिया विवादित बयान, कहा- मैं गृहमंत्री होता तो सभी बुद्धिजीवियों को गोली से मरवा देता

बेंगलुरू में शर्मनाक घटना, यात्रियों ने ओला कैब ड्राइवर को अगवाकर लूटा, विडियो कॉल कर पत्नी के उतरवाए कपड़े

कर्नाटक में बड़ा दर्दनाक हादसा, नहर में गिरी यात्रियों से भरी बस, 25 की मौत

कर्नाटक उपचुनाव परिणाम: लोकसभा और विधानसभा की 5 सीटों में से कांग्रेस जेडीएस गठबंधन को 4 पर जीत, बीजेपी के खाते में 1 सीट

कर्नाटक उपचुनाव: लोकसभा और विधानसभा की 5 सीटों पर वोटों की गिनती जारी, बेल्लारी में जीत की और बढ़ी कांग्रेस

बेंगलुरु में बिना अनुमति के खुला बिटकॉइन एटीएम जब्त, संचालक भी गिरफ्तार

कर्नाटक: बैंक मैनेजर ने लोन के बदले रखी सेक्स की डिमांड, महिला ने की जमकर धुनाई

2018-07-27_BshngaudaPandey.jpg

कर्नाटक से बीजेपी विधायक बसनगौड़ा पाटिल यतना ने देश के बुद्धिजीवियों को लेकर विवादित बयान दिया है. उन्होंने देश के बुद्धिजीवियों पर सेना के खिलाफ नारेबाजी करने का आरोप लगाया और उन्हें गोली मारने की बात कही. कारगिल विजय दिवस पर एक कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अगर मैं देश का गृहमंत्री होता तो बुद्धिजीवियों को गोली मरवा देता. वो यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा, बुद्धीजीवी इस देश में रहते हैं, यहां की सारी सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं, जिसके लिए हम लोग टैक्स भरते हैं. इसके बाद वे भारतीय सेना के खिलाफ नारेबाजी करते हैं. हमारे देश को इन बुद्धिजीवीयों और धर्मनिरपेक्ष लोगों से ज्यादा खतरा है.

आपको बता दें कि कारगिल विजय दिवस पर गुरुवार (26 जुलाई) को सारा देश युद्ध में जान न्यौछावर करने वाले शहीदों को याद कर रहा था. सबकी आंखों में शहीदों के लिए सम्मान झलक रहा था. देश के विभिन्न हिस्सों में लोग कारगिल युद्ध 1999 में शहीद हुए जवानों को श्रद्धाजंलि दे रहे हैं. तीन मई 1999 से शुरू हुआ कारगिल युद्ध लगभग ढाई महीने चला और 26 जुलाई 1999 को समाप्त हुआ. 
 
इससे पहले भी कई बार बीजेपी विधायक बसनगौड़ा पाटिल यतना विवादित बयान दे चुके हैं. चार जून को एक कार्यक्रम में विवादित बयान देते हुए बसनागौड़ा पाटिल यतना ने पार्षदों से कहा था कि मुस्लिमों के लिए काम न करें, सिर्फ हिंदुओं के लिए काम करें, क्योंकि हिंदुओं ने ही मुझे वोट दिया है. सोशल मीडिया पर उनका ये बयान वायरल हुआ था.



loading...