ताज़ा खबर

अयोध्या मामले में अब 29 जनवरी को होगी सुनवाई, नई बेंच का होगा गठन, केस से हटे जस्टिस यूयू ललित

अवैध खनन घोटाले में समाजवादी पार्टी के नेता गायत्री प्रजापति के ठिकानों पर CBI की छापेमारी

लोकसभा चुनाव के पांचवे चरण के लिए 51 सीटों पर वोटिंग जारी, पुलवामा में पोलिंग बूथ पर ग्रेनेड से हमला

लोकसभा चुनाव: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने स्वीकारी हार, कहा- कांग्रेस ने उतारे कमजोर उम्मीदवार

राहुल गांधी ने अमेठी से दाखिल किया नामांकन, प्रियंका-सोनिया और रॉबर्ट वाड्रा भी रहे मौजूद

अयोध्या विवाद: केंद्र सरकार की अपील के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा निर्मोही अखाड़ा, जानें- क्या है वजह

मायावती को मेनका गांधी ने बताया ‘टिकटों का सौदागर’, कहा- 15 करोड़ में बेचती हैं टिकट

2019-01-10_SC.jpg

सुप्रीम कोर्ट में पांच जजों की संवैधानिक पीठ के समक्ष राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले पर सुनवाई शुरू होते ही चीफ जस्टिस रंजन गोगाई ने कहा कि आज सिर्फ सुनवाई की तारीख तय की जाएगी. अब इस मामले की अगली सुनवाई 29 जनवरी हो होगी. इस बीच मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने पांच सदस्‍यीय बेंच में जस्टिस यूयू ललित के शामिल होने पर सवाल उठाए. राजीव धवन ने कहा कि जस्टिस धवन 1994 में कल्‍याण सिंह के वकील रह चुके हैं.

राजीव धवन के सवाल उठाने के बाद चीफ जस्टिस ने बाकी जजों के साथ मशविरा किया. इस पर जस्टिस यू यू ललित ने सुनवाई से अपने आप को अलग करने की बात कही. हालांकि इस मुद्दे को उठाते हुए राजीव धवन ने कहा कि मुझे अफसोस है क्‍योंकि इस तरह के मसले को उठाना ठीक नहीं लगता. इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि आपको अफसोस करने की कोई जरूरत नहीं है. आपने तो तथ्‍यों को पेश किया है. 

अब जस्टिस ललित के खुद ही बेंच से हटने की बात कहने पर अयोध्‍या मसले पर नई संवैधानिक बेंच का गठन होगा. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 29 जनवरी को होगी. आपको बता दें है कि यह पीठ इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई कर रही है. 

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली इस पांच सदस्यीय संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एन वी रमण, न्यायमूर्ति उदय यू ललित और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ शामिल हैं.

शीर्ष अदालत की तीन सदस्यीय पीठ ने गत वर्ष 27 सितंबर को 2:1 के बहुमत से मामले को शीर्ष अदालत के 1994 के एक फैसले में की गई उस टिप्पणी को पुनर्विचार के लिये पांच सदस्यीय संविधान पीठ के पास भेजने से मना कर दिया था जिसमें कहा गया था कि मस्जिद इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं है. मामला अयोध्या भूमि विवाद मामले पर सुनवाई के दौरान उठा था.



loading...