ताज़ा खबर

अयोध्‍या मामला: सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की संवैधानिक पीठ आज करेगी सुनवाई

लोकसभा चुनाव: मुरादाबाद में अमित शाह ने कहा- बड़े-बड़े तीस मार खां आज पुलिस स्टेशन में जाकर खुद सरेंडर कर रहे हैं

Lok Sabha Election: कांग्रेस को अमेठी में बड़ा झटका, राहुल के खिलाफ मैदान में उतरेंगे गांधी परिवार के ये करीबी

मुलायम और अखिलेश की बढ़ सकती है मुश्किलें, आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट ने CBI से मांगी रिपोर्ट

Lok Sabha Eleciton 2019: भाजपा ने जारी की 11 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट, कैराना से हुकुम सिंह की बेटी का टिकट कटा

ग्रेटर नोएडा में बोले पीएम मोदी, यहां आप मोदी-मोदी कर रहे हैं, वहां लोगों की नींद हराम हो रही है

अयोध्या केस में SC ने मध्‍यस्‍थता का दिया आदेश, श्रीश्री रविशंकर समेत 3 सदस्यीय पैनल गठित

2019-01-10_SupremeCourt.jpg

सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले पर आज गुरुवार (10 जनवरी) को सुनवाई करेगी. यह पीठ इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करेगी. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली इस पांच सदस्यीय संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एन वी रमण, न्यायमूर्ति उदय यू ललित और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ शामिल हैं.

शीर्ष अदालत की तीन सदस्यीय पीठ ने गत वर्ष 27 सितंबर को 2:1 के बहुमत से मामले को शीर्ष अदालत के 1994 के एक फैसले में की गई उस टिप्पणी को पुनर्विचार के लिये पांच सदस्यीय संविधान पीठ के पास भेजने से मना कर दिया था जिसमें कहा गया था कि मस्जिद इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं है. मामला अयोध्या भूमि विवाद मामले पर सुनवाई के दौरान उठा था.

जब मामला चार जनवरी को सुनवाई के लिए आया था तो इस बात का कोई संकेत नहीं था कि भूमि विवाद मामले को संविधान पीठ को भेजा जाएगा क्योंकि शीर्ष अदालत ने बस इतना कहा था कि इस मामले में गठित होने वाली उचित पीठ 10 जनवरी को अगला आदेश देगी.

अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद से संबंधित 2.77 एकड़ भूमि के मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 30 सितंबर, 2010 के 2:1 के बहुमत के फैसले के खिलाफ शीर्ष अदालत में 14 अपीलें दायर की गयी हैं. उच्च न्यायालय ने इस फैसले में विवादित भूमि सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान के बीच बराबर-बराबर बांटने का आदेश दिया था.

इस फैसले के खिलाफ अपील दायर होने पर शीर्ष अदालत ने मई 2011 में उच्च न्यायालय के निर्णय पर रोक लगाने के साथ ही विवादित स्थल पर यथास्थिति बनाये रखने का आदेश दिया था.



loading...