ताज़ा खबर

अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी, याचिकाकर्ता के वकील ने कहा- मैं श्री राम उपासक हूं और मुझे जन्मस्थान पर उपासना का अधिकार है

सपा सांसद आजम खान ने अभद्र टिप्‍पणी मामले में मांगी माफी, कहा- गलती हुई माफी चाहता हूं

अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मध्‍यस्‍थता समिति से मांगी रिपोर्ट, 25 जुलाई को होगी अगली सुनवाई

अयोध्या बम ब्लास्ट केस में 4 दोषियों को आजीवन कारावास की सजा, 1 आरोपी बरी

अवैध खनन घोटाले में समाजवादी पार्टी के नेता गायत्री प्रजापति के ठिकानों पर CBI की छापेमारी

लोकसभा चुनाव के पांचवे चरण के लिए 51 सीटों पर वोटिंग जारी, पुलवामा में पोलिंग बूथ पर ग्रेनेड से हमला

लोकसभा चुनाव: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने स्वीकारी हार, कहा- कांग्रेस ने उतारे कमजोर उम्मीदवार

2019-08-22_SupremeCourt.jpg

अयोध्या मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ में 10वें दिन की सुनवाई जारी है. इस केस में याचिकाकर्ता गोपाल सिंह विशारद की ओर से पेश वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार ने कहा कि मैं श्री राम उपासक हूं और मुझे जन्मस्थान पर उपासना का अधिकार है. यह अधिकार मुझसे छीना नहीं जा सकता. उन्होंने 80 साल के अब्दुल गनी की गवाही का हवाला देते हुए कहा कि गनी ने कहा था बाबरी मस्जिद राम जन्मस्थान पर बनी है. ब्रिटिश राज में मस्जिद में सिर्फ जुमे की नमाज़ होती थी, हिन्दू भी वहां पर पूजा करने आते थे. रंजीत कुमार ने कहा कि मस्जिद गिरने के बाद मुस्लिमों ने नमाज़ पढ़ना बंद कर दिया, लेकिन हिंदुओं ने जन्मस्थान पर पूजा जारी रखी.

इससे पहले बुधवार को रामलला विराजमान के वकील सीएस वैद्यनाथन ने कहा था कि विवादित भूमि पर मंदिर रहा हो या न हो, मूर्ति हो या न हो, लोगों की आस्था होना काफी है, यह साबित करने के लिए कि वही रामजन्म स्थान है. वैद्यनाथन ने कहा था कि जब संपत्ति भगवान में निहित होती है तो कोई भी उस संपत्ति को ले नहीं सकता और उस संपत्ति से ईश्वर का हक नहीं छीना जा सकता. ऐसी संपत्ति पर एडवर्स पजेशन का कानून लागू नहीं होगा.

रामलला के वकील ने कहा था कि मंदिर में विराजमान रामलला कानूनी तौर पर नाबालिग का दर्जा रखते हैं. नाबालिग की संपत्ति किसी को देने या बंटवारा करने का फैसला नहीं हो सकता. हज़ारों साल से लोग जन्मस्थान की पूजा कर रहे हैं. इस आस्था को सुप्रीम कोर्ट को मान्यता देना चाहिए. उन्होंने कहा था कि 1949 में विवादित इमारत में रामलला की मूर्ति पाए जाने के बाद 12 साल तक दूसरा पक्ष निष्क्रिय बैठा रहा. उन्हें कानूनन दावा करने का हक नहीं है. कोर्ट जन्मस्थान को लेकर हज़ारों साल से लगातार चली आ रही हिंदू आस्था को महत्व दे.



loading...