ताज़ा खबर

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा- कश्मीर में आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने का फैसला सही साबित हुआ

NSA अजित डोभाल के बेटे विवेक डोभाल की याचिका पर कोर्ट ने लिया संज्ञान, 30 जनवरी को होगी सुनवाई

ईवीएम हैकिंग को लेकर कांग्रेस पर बीजेपी ने साधा निशाना, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पूछा, प्रेस कांफ्रेंस में कपिल सिब्बल क्या कर रहे थे

CBI मामला: अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर ने 20 अधिकारियों के किए तबादले, 2जी घोटाले की जांच करने वाला ऑफिसर भी शामिल

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अनुच्छेद 35-A को चुनौती देने वाली याचिका पर जल्द बंद कमरे में होगी सुनवाई

पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर पर तैयार किया ड्राफ्ट, समझौते को अंतिम रूप देने के लिए भारत को भेजा न्यौता

सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण पर हाईकोर्ट का मोदी सरकार को नोटिस, 18 फरवरी से पहले देना होगा जवाब

2019-01-10_VipinRawat.jpg

भारतीय सेना के अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने जम्मू कश्मीर सीमा पर घुसपैठ मामले में बड़ा बयान दिया है. बिपिन रावत ने कहा कि भारत का पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान हमेशा से ही घुसपैठियों का समर्थन करता हुआ है. उन्होंने कहा कि पहले के मुकाबले जम्मू कश्मीर में आतंकवाद से जुड़ी घटनाएं कम हुईं हैं. कश्मीर के हालातों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि घाटी के जो युवक आतंक का रास्ता छोड़ने की चाह रखते हैं, भारतीय सेना उनकी मदद के लिए हमेशा साथ खड़ी है.

सेना प्रमुख ने कहा कि जम्मू कश्मीर के तमाम इलाकों में आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने का फैसला सही साबित हुए हैं. उन्होंने कहा कि आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने के बाद घाटी के हालात पहले से बेहतर हुए हैं, जिससे हिंसा कम हुई है.

सेना प्रमुख ने अपने वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थिति को और सुधारने की जरूरत है. उन्होंने कहा, 'जम्मू कश्मीर में शांति के लिए हम केवल समन्वयक हैं.' जनरल रावत ने कहा, 'हमने उत्तरी और पश्चिमी सीमाओं पर स्थिति बेहतर तरीके से संभाली है. उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं होनी चाहिए.'

उन्होंने कहा कि कट्टरपंथ ने हमारे देश में अलग ही रूप ले लिया है. जम्मू-कश्मीर में युवा इसलिए कट्टरपंथी होते जा रहे हैं, क्योंकि उन्हें गलत जानकारी दी जा रही है और धर्म के बारे में झूठ बताया जा रहा है. यह रूप अब युद्ध तकनीक बनता जा रहा है. सबसे बड़ा मुद्दा यह है कि सोशल मीडिया को यह सुनिश्चित करना होगा कि गलत और झूठी जानकारी के ज़रिए कट्टरपंथ न पनप पाए. आतंकवादी संगठन जिन कारणों के लिए पैसा जुटाते हैं, सोशल मीडिया के ज़रिये उनमें कट्टरपंथ फैलाना भी एक कारण है.
 



loading...