ताज़ा खबर

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा- कश्मीर में आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने का फैसला सही साबित हुआ

बीजेपी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र का ऐलान, इस बार नहीं लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने थामा बीजेपी का दामन, बोले- PM मोदी के विजन से हुआ प्रभावित

राहुल गांधी के करीबी सैम पित्रोदा ने एयर स्ट्राइक पर उठाए सवाल, कहा- कुछ लोगों की गलती की सजा पूरे पाक को नहीं दे सकते

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, पाक के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे भारतीय प्रतिनिधि

लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की 184 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, वाराणसी से पीएम मोदी, गांधीनगर से लड़ेंगे अमित शाह

पीएम नरेंद्र मोदी ने ब्लॉग लिखकर कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- परिवारवाद और वंशवाद ने देश को कमजोर कर दिया

2019-01-10_VipinRawat.jpg

भारतीय सेना के अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने जम्मू कश्मीर सीमा पर घुसपैठ मामले में बड़ा बयान दिया है. बिपिन रावत ने कहा कि भारत का पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान हमेशा से ही घुसपैठियों का समर्थन करता हुआ है. उन्होंने कहा कि पहले के मुकाबले जम्मू कश्मीर में आतंकवाद से जुड़ी घटनाएं कम हुईं हैं. कश्मीर के हालातों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि घाटी के जो युवक आतंक का रास्ता छोड़ने की चाह रखते हैं, भारतीय सेना उनकी मदद के लिए हमेशा साथ खड़ी है.

सेना प्रमुख ने कहा कि जम्मू कश्मीर के तमाम इलाकों में आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने का फैसला सही साबित हुए हैं. उन्होंने कहा कि आतंकियों के जनाजे पर रोक लगाने के बाद घाटी के हालात पहले से बेहतर हुए हैं, जिससे हिंसा कम हुई है.

सेना प्रमुख ने अपने वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थिति को और सुधारने की जरूरत है. उन्होंने कहा, 'जम्मू कश्मीर में शांति के लिए हम केवल समन्वयक हैं.' जनरल रावत ने कहा, 'हमने उत्तरी और पश्चिमी सीमाओं पर स्थिति बेहतर तरीके से संभाली है. उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं होनी चाहिए.'

उन्होंने कहा कि कट्टरपंथ ने हमारे देश में अलग ही रूप ले लिया है. जम्मू-कश्मीर में युवा इसलिए कट्टरपंथी होते जा रहे हैं, क्योंकि उन्हें गलत जानकारी दी जा रही है और धर्म के बारे में झूठ बताया जा रहा है. यह रूप अब युद्ध तकनीक बनता जा रहा है. सबसे बड़ा मुद्दा यह है कि सोशल मीडिया को यह सुनिश्चित करना होगा कि गलत और झूठी जानकारी के ज़रिए कट्टरपंथ न पनप पाए. आतंकवादी संगठन जिन कारणों के लिए पैसा जुटाते हैं, सोशल मीडिया के ज़रिये उनमें कट्टरपंथ फैलाना भी एक कारण है.
 



loading...