ताज़ा खबर

'तेजस' और 'अर्जुन' के नए वर्जन को सेना का इंकार, विदेशी लड़ाकू वाहनों की उठाई मांग

जम्मू-कश्मीर: पुलावामा में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 3 आतंकियों को मार गिराया, सेना का 1 जवान घायल

राफेल डील पर SC के फैसले के बाद BJP हमलवार- अरुण जेटली ने कहा- झूठ बोलने वालों की हुई हार

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अमित शाह ने पूछा- जो चोर होते है वही चौकीदार से डरते हैं

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी आक्रामक, नेताओं ने लगाए ‘राहुल गांधी माफी मांगो’ के नारे, लोकसभा 17 दिसंबर तक स्थगित

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, CJI बोले- सौदे में कोई गड़बड़ी नहीं, इसे घोटाला नहीं कहा जा सकता

राजस्‍थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को लेकर कांग्रेस में अभी भी सस्पेंस, राहुल के आवास पर बैठकों का दौर शुरू

2017-11-13_arjun5.JPG

इंडियन आर्मी और एयरफोर्स ने स्वदेशी एयरक्राफ्ट तेजस और टैंक अर्जुन के एडवांस और सिंगल इंजन मॉडल पर भरोसा न जताते हुए विदेशी बख्तरबंद लड़ाकू वाहनों की मांग रखी है. इनको मेक इन इंडिया प्रोसेस के तहत सशस्त्र बल में शामिल करने का सुझाव दिया गया है.

दरअसल, आर्मी को 1,770 टैंक्स की जरूरत है वही एयरफोर्स ने भी 114 सिंगल इंजन फाइटर प्लेन की मांग रखते हुए टेंडर निकाला है, लेकिन एयरफोर्स और आर्मी की मांग पूरा करना इतना भी आसान नहीं होगा.

जानकारी के मुताबिक, रक्षा क्षेत्र का सालाना बजट नए प्रोजेक्ट्स के लिए पर्याप्त नहीं है, क्योंकि ज्यादातर पैसा पहले हो चुकी डील की किश्त के रूप में चुका दिया गया है. अगर अब मांगों को पूरा करना पड़ा तो सिर्फ एयरफोर्स के लिए 1.15 लाख करोड़ रुपए की जरूरत होगी.

तेजस एयरक्राफ्ट का प्रोजेक्ट 1983 में सेंक्शन किया गया था. एयरफोर्स के मुताबिक , ये लड़ाई के लिए अभी भी तैयार नहीं हैं और फाइनल क्लीयरेंस भी जून 2018 तक मिलेगा. इनकी रेंज और हथियारों को लेकर जाने की क्षमता भी कम है. 

अर्जुन टैंक का प्रोजेक्ट 1974 में सेंक्शन किया गया था. आर्मी के मुताबिक ये भारी हैं और पुल और रेत को पार करने में इन्हें दिक्कत आती है. इनसे सीधा वार करना भी आसान नहीं होता.



loading...