ताज़ा खबर

बहुचर्चित अनुपमा हत्याकांड में पति दोषी करार, आरी से किए थे पत्नी के 72 टुकड़े

सुशांत सिंह राजपूत और सारा अली खान की फिल्म ‘केदारनाथ’ को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ी राहत, याचिका रदद्, उत्तराखंड सरकार ने जांच के लिए बनाया पैनल

उत्तराखंड: उच्च न्यायालय ने नगर पालिकाओं-पंचायतों में 7 दिन के भीतर चुनाव प्रकिया शुरू करने के दिए आदेश

उत्तराखंड में अगले 24 घंटे भारी बारिश की चेतावनी, प्रशासन ने सतर्क रहने के दिए आदेश

गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने वाला पहला राज्य बना उत्तराखंड, विपक्ष ने किया समर्थन

देहरादून: बोर्डिंग की छात्रा के साथ गैंगरेप, पीड़िता के गर्भवती होने तक मामला छुपाता रहा स्कूल प्रबंधन

उत्तरकाशी में सड़क पर अचानक हुए भूस्खलन की वजह से 100 मीटर गहरी खाई में गिरा टैंपो, 13 की मौत

2017-09-01_anupama65.jpg

देहरादून बहुचर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड में अनुपमा के पति राजेश गुलाटी को हत्या का दोषी करार दिया गया है. इस मामले में कोर्ट ने राजेश गुलाटी को हत्या और सबूतों से छेड़छाड़ की धारा के तहत दोषी माना है. राजेश गुलाटी को कल सजा सुनाई जाएगी.

राज्य के इतिहास में इससे कोल्ड ब्लडेड मर्डर अभी तक सामने नहीं आया है. राजेश गुलाटी ने सिर्फ़ अनुपमा की हत्या बल्कि उसके शव को डीप फ़्रीज़र में रखकर जमा दिया और फिर टुकड़े कर शव को ठिकाने लगाता रहा.

बता दें कि इस हत्याकांड का खुलासा 12 दिसंबर 2010 को हुआ था, लेकिन अनुपमा की हत्या 17 अक्टूबर 2010 को ही कर दी गई थी. पुलिस के अनुसार अनुपमा ने अपने परिवार की मर्ज़ी के ख़िलाफ राजेश से लव मैरिज की थी लेकिन कुछ दिन बाद ही दोनों में झगड़ा होने लगा था.

17 अक्टूबर 2010 को फिर से दोनों में झगड़ा हुआ और उसके बाद राजेश ने अनुपमा की हत्या कर दी. हत्या के बाद राजेश ने डीप फ्रीजर खरीदा और उसमें अनुपमा के शव को रख दिया. शव के जम जाने के बाद उसने स्टोन कटर, आरी और मशीन से टुकड़े किए और मसूरी रोड पर धीरे-धीरे कर ठिकाने लगा.

दो महीने तक बहन से संपर्क ना होने पर अनुपमा के भाई को शक हुआ और उसने पुलिस में शिकायत की. राजेश के घर की तलाशी लेने पर डीप फ्रीजर में अनुपमा के टुकड़े रखे मिले थे.



loading...