फिर दुर्घटनाग्रस्त हुआ जगुआर, एयरफोर्स ने दिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश

गुजरात के जूनागढ़ में पीएम मोदी ने कहा- कांग्रेस ने कर्नाटक के बाद अब मध्य प्रदेश को अपना एटीएम बना लिया है

Lok Sabha Election: बीजेपी ने गुजरात के लिए जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट, विवेक ओबेरॉय का नाम भी शामिल

हार्दिक पटेल को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार

गुजरात हाईकोर्ट से हार्दिक पटेल को बड़ा झटका, दंगा केस में सजा पर रोक लगाने से इनकार, नहीं लड़ पाएंगे लोकसभा चुनाव

लोकसभा चुनाव: गुजरात की जामनगर सीट पर हार्दिक पटेल को चुनौती दे सकती हैं क्रिकेटर रविन्द्र जड़ेजा की पत्नी

राजकोट में बैन के बाद PUBG खेल रहे 10 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

2018-06-08_iaf-jaguar.jpg

गुजरात के जामनगर एयरबेस पर एयर फोर्स का जगुआर एयरक्राफ्ट शुक्रवार को दुर्घटनाग्रस्त गया। इसमें किसी को नुकसान नहीं पहुंचा है। पायलट क्रैश होने के पहले ही सुरक्षित बाहर निकल गया। चार दिन में यह दूसरा हादसा है। इससे पहले 5 जून को कच्छ में जगुआर एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में एयर कमोडोर रैंक के अफसर संजय चौहान शहीद हो गए थे। एयरफोर्स ने कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दिए गए।

वायुसेना के प्रवक्ता ने बताया कि हादसा शुक्रवार सुबह 9.20 बजे हुआ। लैंडिंग से पहले पायलट को विमान में खराबी का अंदाजा हो गया था। इसलिए एयर कमोडोर रैंक के अफसर ने खुद को बाहर निकल लिया और उनकी जान बच गई। एजेंसी ने सूत्रों को हवाले से बताया कि हादसे के पहले वह रनवे पर करीब 500 फीट तक फिसल गया।

गुजरात के कच्छ में 5 जून को भारतीय वायुसेना का जगुआर एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में एयर कमोडोर रैंक के अफसर संजय चौहान शहीद हो गए थे। एयरक्राफ्ट ने रूटीन ट्रेनिंग के लिए जामनगर से उड़ान भरी थी। इस हादसे की जांच के भी कोर्ट ऑफ इन्कॉयरी के आदेश दिए जा चुके हैं। जगुआर एयक्राफ्ट पिछले चार दशक से वायुसेना में सेवा दे रहा है। वायुसेना जगुआर में रडार और इंजन को अपग्रेड करने के लिए नई तकनीक का इस्तेमाल कर रही है। जिससे उसे लंबे समय तक उपयोग में लिया जा सके।



loading...