फिर दुर्घटनाग्रस्त हुआ जगुआर, एयरफोर्स ने दिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश

Vibrant Gujarat Summit में मुकेश अंबानी ने प्रधानमंत्री मोदी से ‘डाटा के औपनिवेशीकरण' के खिलाफ कदम उठाने का किया आग्रह

वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- कारोबार सुगमता रैंकिंग में भारत को टॉप 50 में पहुंचाने का लक्ष्य

गुजरात: चलती ट्रेन में बीजेपी के पूर्व विधायक जयंती भानुशाली की बदमाशों ने गोली मारकर की हत्या

अहमदाबाद: हॉस्पिटल से 35 किमी दूर बैठे थे डॉक्टर, रोबोट के जरिए किया दिल का ऑपरेशन

गुजरात: अक्षरधाम मंदिर पर आतंकी हमले में शामिल आरोपी 16 साल बाद गिरफ्तार

गुजरात दंगा: पीएम मोदी के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर अब 26 नवंबर को सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

2018-06-08_iaf-jaguar.jpg

गुजरात के जामनगर एयरबेस पर एयर फोर्स का जगुआर एयरक्राफ्ट शुक्रवार को दुर्घटनाग्रस्त गया। इसमें किसी को नुकसान नहीं पहुंचा है। पायलट क्रैश होने के पहले ही सुरक्षित बाहर निकल गया। चार दिन में यह दूसरा हादसा है। इससे पहले 5 जून को कच्छ में जगुआर एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में एयर कमोडोर रैंक के अफसर संजय चौहान शहीद हो गए थे। एयरफोर्स ने कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दिए गए।

वायुसेना के प्रवक्ता ने बताया कि हादसा शुक्रवार सुबह 9.20 बजे हुआ। लैंडिंग से पहले पायलट को विमान में खराबी का अंदाजा हो गया था। इसलिए एयर कमोडोर रैंक के अफसर ने खुद को बाहर निकल लिया और उनकी जान बच गई। एजेंसी ने सूत्रों को हवाले से बताया कि हादसे के पहले वह रनवे पर करीब 500 फीट तक फिसल गया।

गुजरात के कच्छ में 5 जून को भारतीय वायुसेना का जगुआर एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में एयर कमोडोर रैंक के अफसर संजय चौहान शहीद हो गए थे। एयरक्राफ्ट ने रूटीन ट्रेनिंग के लिए जामनगर से उड़ान भरी थी। इस हादसे की जांच के भी कोर्ट ऑफ इन्कॉयरी के आदेश दिए जा चुके हैं। जगुआर एयक्राफ्ट पिछले चार दशक से वायुसेना में सेवा दे रहा है। वायुसेना जगुआर में रडार और इंजन को अपग्रेड करने के लिए नई तकनीक का इस्तेमाल कर रही है। जिससे उसे लंबे समय तक उपयोग में लिया जा सके।



loading...