अनशन पर बैठे अन्ना हजारे ने कहा- मांगे पूरी नहीं हुई तो लौटा दूंगा पद्म भूषण अवार्ड

2019-02-04_AnnaHazare.jpg

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने रविवार को चेतावनी दी कि यदि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने अपने वादे पूरे नहीं किए तो वह अपना पद्म भूषण सम्मान सरकार को लौटा देंगे. 81 वर्षीय अन्ना अपने गांव रालेगण सिद्धि में लोकपाल के मुद्दे पर अनशन दे रहे हैं, जिसे रविवार को 5 दिन पूरे हो गए. रविवार को दिन में एनडीए गठबंधन में भाजपा के साथी दल शिव सेना ने अन्ना हजारे की मांगों का समर्थन करने की घोषणा की. शिवसेना ने अन्ना से समाजवादी नेता जयप्रकाश नारायण का अनुसरण करते हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व संभालने की अपील की.

अन्ना हजारे ने अहमदनगर जिले में स्थित अपने पैतृक गांव रालेगण सिद्धि में बुधवार को भूख हड़तार शुरू की थी. उनकी मांग है कि लोकपाल और लोकायुक्तों की नियुक्ति की जाए तथा किसानों के मुद्दे पर संकल्प पत्र पेश किया जाए. अन्ना ने कहा कि मोदी सरकार ने लोगों का विश्वास तोड़ा है. उन्होंने अगले कुछ दिन में अपनी मांगें नहीं मानने पर देश का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण लौटा देने की चेतावनी दी, जो उन्हें 1992 में दिया गया था. 

रविवार को डॉ. धनंजय पोटे ने अन्ना की स्वास्थ्य जांच करने के बाद बताया कि खाना नहीं खाने के कारण उनका 3.8 किलोग्राम वजन कम हो चुका है और ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर व यूरिन में क्रिएटिन का स्तर भी लगातार बढ़ रहा है.

इससे पहले अन्ना की मांगों के समर्थन में करीब 110 प्रदर्शनकारियों ने रालेगण सिद्धि से 38 किलोमीटर दूर परनार तहसील क्षेत्र के गांव सूपा में अहमदनगर-पुणे हाईवे पर जाम लगा दिया. दोनों तरफ वाहनों की 6-6 किलोमीटर लंबी लाइन लगने के कई घंटे बाद पुलिस ने किसी तरह यह जाम खुलवाया.



loading...