चंद्रबाबू नायडू को बड़ा झटका, बीजेपी में शामिल हुए TDP के 4 राज्यसभा सांसद

आंध्र प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष कोडेला शिव प्रसाद राव ने की खुदखुशी

आंध्र प्रदेश: TDP प्रमुख चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे नारा लोकेश को किया गया नजरबंद, जानें क्या है वजह

आंध्र प्रदेश में 74 साल की उम्र में महिला ने दिया जुड़वां बच्चियों को जन्म, दर्ज हो सकता है वर्ल्ड रिकॉर्ड

आंध्र प्रदेश: देर रात पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू के आवास ‘प्रजा वेदिका’ पर चला बुलडोजर

आंध्र प्रदेश: सीएम जगन मोहन रेड्डी ने दिया चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला तोड़ने का आदेश

आंध्र प्रदेश: पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू की हवाई अड्डे पर ली गई कड़ी तलाशी, नहीं मिला VVIP का रुतबा

2019-06-21_TDPMP.jpg

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और तेलगु देशम पार्टी (टीडीपी) के अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू को बड़ा झटका लगा है. उनकी पार्टी से चार राज्यसभा सांसदों ने टीडीपी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है. जो टीडीपी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए हैं, उनमें राज्यसभा सांसद सीएम रमेश, टीजी वेंटकेश, जी मोहन राव और वाईएस चौधरी शामिल हैं.

इन चारों सांसदों ने राज्यसभा में टीडीपी के भारतीय जनता पार्टी में विलय का प्रस्ताव पास किया और इसकी जानकारी राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू को दी. राज्यसभा में टीडीपी के कुल 6 सांसद थे, लेकिन अब सिर्फ दो ही बचे हैं. बीजेपी में शामिल होने वाले टीडीपी के इन सांसदों पर दलबदल कानून नहीं लागू होगा. इसकी वजह यह है कि दलबदल कानून किसी सदन में एक पार्टी के दो तिहाई सदस्यों को अपनी पार्टी का दूसरी पार्टी में विलय करने का अधिकार देता है. लिहाजा ये चारों राज्यसभा के सदस्य बने रहेंगे.

टीडीपी के इन सांसदों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी में शामिल होने की घोषणा की. बीजेपी के कार्यवाहक अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इनको पार्टी में शामिल कराया. टीडीपी के इन चार राज्यसभा सांसद बीजेपी में उस समय शामिल हुए हैं, जब टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू अपने परिवार के साथ विदेश में छुट्टियां मना रहे हैं.

वहीं, टीडीपी अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा, 'हमने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने और राज्य के हित के लिए बीजेपी से लड़ाई लड़ी. हमने सूबे को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए केंद्रीय मंत्री पद तक को छोड़ दिया. हम टीडीपी को कमजोर करने की बीजेपी की कोशिश की निंदा करते हैं. टीडीपी में संकट कोई नया नहीं है. पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को निराश होने की जरूरत नहीं है.'

आपको बता दें कि बीजेपी के पास मौजूदा आंध्र प्रदेश में विधानसभा में कोई भी विधायक नहीं है, जबकि पिछली विधानसभा में भाजपा को पांच सीटें मिली थी. पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा का टीडीपी के साथ गठबंधन था. जबकि इस बार हुए चुनाव में टीडीपी ने अलग चुनाव लड़ने का फैसला किया था. ऐसे में चंद्रबाबू नायडू के विदेश दौरे से लौटने के बाद आंध्र प्रदेश की राजनीति में बड़ी हलचल देखने को मिल सकती है.

हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में टीडीपी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा. पार्टी आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों में महज 3 ही सीटें जीत पाई, जबकि वाईएसआर कांग्रेस ने 22 सीटों पर कब्जा किया. वहीं विधानसभा चुनावों में टीडीपी ने प्रदेश की 175 सीटों में से महज 23 सीटें ही जीतीं. सबसे ज्यादा सीटें 151 वाईएसआर कांग्रेस के खाते में आईं. जनसेना पार्टी ने एक सीट पर कब्जा किया.  


 



loading...