ताज़ा खबर

NSA अजीत डोभाल को मोदी सरकार ने दी नई जिम्मेदारी, SPG भी संभालेंगे

राफेल डील पर SC के फैसले के बाद BJP हमलवार- अरुण जेटली ने कहा- झूठ बोलने वालों की हुई हार

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अमित शाह ने पूछा- जो चोर होते है वही चौकीदार से डरते हैं

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी आक्रामक, नेताओं ने लगाए ‘राहुल गांधी माफी मांगो’ के नारे, लोकसभा 17 दिसंबर तक स्थगित

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, CJI बोले- सौदे में कोई गड़बड़ी नहीं, इसे घोटाला नहीं कहा जा सकता

राजस्‍थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को लेकर कांग्रेस में अभी भी सस्पेंस, राहुल के आवास पर बैठकों का दौर शुरू

आज राफेल डील वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला, निर्णय का लोकसभा चुनाव पर पड़ेगा असर

2018-10-09_AjitDoval.jpg

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को एक नई जिम्मेदारी दी गई है. रणनीतिक नीति समूह (स्ट्रैटिजिक पॉलिसी ग्रुप) के कैबिनेट सचिव के बदले अब वो इसकी अध्यक्षता करेंगे. इस नई जिम्मेदारी के साथ वो और भी शक्तिशाली नौकरशाह बन गए हैं.  

आपको बता दें कि 1999 में एसपीजी का गठन बाहरी, आंतरिक और आर्थिक सुरक्षा के मामलों में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की मदद के लिए किया गया था. वो एसपीजी की बैठकों का संयोजन करेंगे, जबकि कैबिनेट सचिव फैसलों पर अमल को लेकर विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के बीच समन्वय स्थापित करेंगे. 

इससे पहले एसपीजी की अध्यक्षता कैबिनेट सचिव किया करते थे, जो सरकार में सबसे वरिष्ठ नौकरशाह होते हैं, लेकिन अब इसकी अध्यक्षता देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल करेंगे. मोदी सरकार ने 11 सितंबर को इस संबंध में अधिसूचना जारी की थी और 8 अक्टूबर को गजट प्रकाशित किया था. अधिसूचना के मुताबिक, अब राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को इस समूह का चेयरमैन घोषित किया गया है. 

आपको बता दें कि पहले एसपीजी में 16 सदस्य होते थे, जिसे अब बढ़ाकर 18 कर दिया गया है. इसमें कैबिनेट सचिव और नीति आयोग के उपाध्यक्ष को दो नए सदस्यों के रूप में शामिल किया गया है. एसपीजी के अन्य सदस्यों में तीनों सेनाओं के सेनाध्यक्ष, आरबीआई गवर्नर, गृह सचिव, वित्त सचिव, रक्षा सचिव, विदेश सचिव और इंटेलिजेंस ब्यूरो के प्रमुख शामिल हैं.



loading...