ऐश्वर्या मिस वर्ल्ड बनीं तो ठीक, पर डायना का बनना समझ से परे: त्रिपुरा के सीएम

त्रिपुरा में सरकारी फरमान, मीटिंग के दौरान जींस, कार्गो पैंट और डेनिम शर्ट न पहनें अधिकारी

असम NRC मामले के बाद अब त्रिपुरा के सीएम के जन्मस्थान को लेकर बवाल, बिप्लब देब ने कहा- मैं भारतीय हूं

त्रिपुरा: विधानसभा में गाया गया पहली बार राष्ट्रगान, CPM विधायक ने कहा- पहले हमसे नहीं की गई बात

त्रिपुरा: बिप्लब देब बनेंगे त्रिपुरा के सीएम, जिष्णु देब वर्मा होंगे उपमुख्यमंत्री

त्रिपुरा: BJP समर्थकों का हंगामा, लेनिन की मूर्ति गिराई, राजनाथ ने गवर्नर से सरकार बनने तक हालात पर नजर रखने को कहा

विधानसभा चुनाव: त्रिपुरा में गरजे पीएम मोदी, राज्‍य को माणिक की जगह 'हीरा' की जरूरत

2018-04-27_bilab54.jpg

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब का महाभारत युग में इंटरनेट मौजूद होने के बयान पर विवाद थमा भी नहीं था कि वह अब डायना हेडेन पर टिप्पणी कर घिर गए हैं. बिप्लब ने बृहस्पतिवार को अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिताओं को तमाशा बताते हुए 21 वर्ष पहले डायना हेडेन को मिस वर्ल्ड चुने जाने पर सवालिया निशान लगाया. हालांकि उन्होंने वर्ष 1994 में मिस वर्ल्ड का ताज पहनने वाली ऐश्वर्या राय की तारीफ की और उन्हें भारतीय महिलाओं का सही प्रतिनिधि बताया. 

बिप्लब ने एक कार्यक्रम में कहा कि सौंदर्य प्रतियोगिताओं के आयोजन इंटरनेशनल मार्केटिंग माफिया हैं, जो देश में बड़े बाजार को निशाना बना रहे हैं. लगातार 5 वर्ष तक हमने मिस वर्ल्ड या मिस यूनिवर्स खिताब जीते. डायना हेडेन ने भी जीता. क्या आपको लगता है कि उन्हें सही में खिताब जीतना चाहिए था? उन्होंने कहा कि वे 1997 की मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता की निर्णय प्रक्रिया को नहीं समझ पाए, जिसमें डायना ने खिताब जीता था.

उन्होंने आगे कहा कि हम महिला को देवी लक्ष्मी, सरस्वती के रूप में देखते हैं. ऐश्वर्या राय भी भारतीय महिला की प्रतिनिधि हैं. वे मिस वर्ल्ड बनी तो ये ठीक है. लेकिन मैं डायना हेडेन की खूबसूरती नहीं समझ पा रहा हूं. उन्होंने कहा कि क्यों और सुंदरियां भारत से नहीं आईं? वे (सौंदर्य प्रतियोगिता के आयोजक) हमारे देश में मार्केट कब्जा चुके हैं और अब वे कहीं और यही कर रहे हैं.

वहीं, मुख्यमंत्री के इस बयान को लेकर ट्विटर पर उनकी आलोचनाओं की झड़ी लग गई. ट्विटर पर आई टिप्पणियों में उन्हें बेवकूफ और सांप्रदायिक करार दिया गया. सामाजिक कार्यकर्ता कविता कृष्णन ने ट्वीट में देब के बयान को बेवकूफी, लैंगिकवाद और सांप्रदायिकता से भरा हुआ बताया. दिल्ली के मुख्यमंत्री के सलाहकार नगेंद्र शर्मा ने ट्वीट किया, हालांकि अभी अप्रैल ही चल रहा है, लेकिन ये 2018 के सबसे खराब बयान का तमगा पाने की योग्यता रखता है.
 



loading...