ताज़ा खबर

RK स्टूडियो के बाद अब बंद होने जा रहा है यह फेमस स्टूडियो, रह जाएंगी ‘पाकीजा’ और ‘रजिया सुल्तान’ जैसी फिल्मों की यादें

2019-06-12_KamalistanStudio.jpeg

छह दशक पुराना कमाल अमरोही स्टूडियो अब बंद होने जा रहा है. इसे कमालिस्तान स्टूडियो के नाम से भी जाना जाता है. इस स्टूडियों ने हिंदी सिनेमा को कई ब्लॉकबस्टर फिल्में दी है. आरके स्टूडियो के बाद यहां भी अब देश का बड़ा कॉर्पोरेट ऑफिस पार्क बनने की संभावना है. इसके लिए DB Reality और बेंगलुरु बेस्ड RMZ Corp के संयुक्त रूप से सौदे की बात चल रही है. कमाल अमरोही स्टूडियो 15 एकड़ जमीन पर बना हुआ है.

आपको बता दें कि कमालिस्तान फिल्म इंडस्ट्री का दूसरा सबसे आइकोनिक स्टूडियो है जो अब एक कर्मिशयल प्रॉपर्टी बनने जा रहा है. पिछले महीने आरके स्टूडियो का सौदा हुआ था. सोमवार को डीबी रियल्टी ने बताया 'कमालिस्तान के प्रोडक्शन हाउस महल पिक्चर्स और आरएमजेड के बीच यह सौदा हुआ है जिसमें जोगेश्वरी विखरोली लिंक रोड स्थित जमीन पर एक बड़ा कॉर्पोरेट ऑफिस पार्क बनने जा रहा है.

हालांकि, दोनों के बीच हुए इस सौदे की फाइनेंशियल डिटेल्स और डेवलपमेंट प्लान्स का खुलासा नहीं हुआ है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आरएमजेड को 55 प्रतिशत जबकि डीबी रियल्टी और अविनाश भोसले ग्रुप को 45 फीसदी हिस्सेदारी मिलेगी. इस प्रोजेक्ट की कीमत 21 हजार करोड़ रुपये बताई जा रही है.

आपको बता दें कि कमालिस्तान स्डूडियो को फिल्ममेकर और स्क्रीन राइटर कमाल अमरोही ने साल 1958 में स्थापित किया था. इस स्टूडियो ने कई हिट फिल्में दी जिसमें महल (1949), पाकिजा (1972), रजिया सुल्तान (1983), अमर अकबर एंथनी और कालिया शामिल हैं. आपको बता दें कि कमाल ने 15 एकड़ की जमीन पर मुंबई के जोगेश्वरी में इसे बनाया था. साल 2010 में कमाल के तीनों बेटों ने स्टूडियो के एक हिस्से को तीन बिल्डरों को बेच दिया था, जिसमें डीबी रियल्टी और अविनाश भोसले ग्रुप भी शामिल था.



loading...