चीन की दोहरी चाल- आतंकी अजहर को बचाकर कर रहा है भारत को मनाने की कोशिश, द्विपक्षीय संबंधों की दी दुहाई

आतंकवादी बुरहान वानी को पाकिस्तान ने बताया फ्रीडम आइकॉन, जारी किया डाक टिकट

ऑस्ट्रेलिया में स्ट्रॉबेरी को खाने से डर रहे है लोग, 6 राज्यों में रुकी बिक्री, जानिए- क्या हैं कारण

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पीएम मोदी को लिखा खत, फिर से शुरू करना चाहते हैं शांति वार्ता

भ्रष्टाचार के मामले में जेल में बंद नवाज शरीफ, बेटी और दामाद को बड़ी राहत, इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने सजा पर लगाई रोक

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में लोग अपने पसंदीदी फल स्ट्रॉबेरी को खाने से डर रहे हैं जानिए- क्या हैं कारण

जर्मनी में दौड़ने लगी पानी से चलने वाली ट्रेन, धुएं की जगह निकलता है भाप और पानी

2017-11-03_msood54.jpg

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की भारत की कोशिशों पर फिर से पानी फेरने के बाद चीन ने कहा कि बीजिंग नई दिल्ली के साथ द्विपक्षीय संबंध बेहतर करने पर काम कर रहा है. चीन ने चौथी बार अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की भारत , यूएस और बाकी देशों की कोशिशों में अड़ंगा लगाते हुए कहा था कि प्रतिबंध लगाने वाली कमेटी के बीच आम सहमति नहीं बन पाई है.

इस पूरी घटना के बाद चीनी विदेश मंत्री के सहायक चेन जियाडोंग ने कहा था कि भारत चीन का महत्वपूर्ण पड़ोसी देश है और चीन अपने सभी पड़ोसियों के साथ बनाए गए संबंधों को नए युग की ओर लेकर जाना चाहता है. चेन ने आगे कहा कि चीन भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को बेहतर करने के लिए काम कर रहा है.

चीन के इस कदम पर भारत ने नाराजगी जताते हुआ कहा था कि संकीर्ण उद्देशय को पूरा करने के लिए आतंक का साथ देना आगे की ना सोचने और प्रगति को उल्टा कर देना जैसा है.

बता दें कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को यूएन की प्रतिबंधित आतंकी संगठनों की सूची में पहले ही डाला जा चुका है लेकिन मसूद अजहर को बार-बार चीन बचा रहा है. चीन वीटो शक्ति का इस्तेमाल कर इस प्रस्ताव को यह कहकर खारिज कर दिया है कि इस पर सर्वसम्मति नहीं है.



loading...