चीन की दोहरी चाल- आतंकी अजहर को बचाकर कर रहा है भारत को मनाने की कोशिश, द्विपक्षीय संबंधों की दी दुहाई

शरणार्थी बच्चों से मिलने के बाद ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप ने पहनी ऐसी जैकेट देखकर मचा बवाल, ट्रम्प को देनी पड़ी सफाई

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न बनीं माँ, ऐसा करने वाली दूसरी महिला, इससे पहले बेनजीर ने बेटी को जन्म दिया था

डोनाल्ड ट्रंप ने बदला फैसला, अमेरिका में अवैध प्रवासियों के बच्चे अब परिवार से नहीं बिछड़ेंगे

ट्रंप से मुलाकात के हफ्तेभर बाद चीन पहुंचे किम, 4 महीने में तीसरा दौरा, जिनपिंग से करेंगे मुलाकात

चीनी राजदूत ने कहा- भारत-पाकिस्तान और चीन मिलकर रच सकते हैं इतिहास, हम एक और डोकलाम नहीं चाहते

जापान के ओसाका शहर में 6.1 तीव्रता का भूकंप, 3 मरे, 50 घायल, बुलेट ट्रेन भी रोकी गई

2017-11-03_msood54.jpg

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की भारत की कोशिशों पर फिर से पानी फेरने के बाद चीन ने कहा कि बीजिंग नई दिल्ली के साथ द्विपक्षीय संबंध बेहतर करने पर काम कर रहा है. चीन ने चौथी बार अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की भारत , यूएस और बाकी देशों की कोशिशों में अड़ंगा लगाते हुए कहा था कि प्रतिबंध लगाने वाली कमेटी के बीच आम सहमति नहीं बन पाई है.

इस पूरी घटना के बाद चीनी विदेश मंत्री के सहायक चेन जियाडोंग ने कहा था कि भारत चीन का महत्वपूर्ण पड़ोसी देश है और चीन अपने सभी पड़ोसियों के साथ बनाए गए संबंधों को नए युग की ओर लेकर जाना चाहता है. चेन ने आगे कहा कि चीन भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को बेहतर करने के लिए काम कर रहा है.

चीन के इस कदम पर भारत ने नाराजगी जताते हुआ कहा था कि संकीर्ण उद्देशय को पूरा करने के लिए आतंक का साथ देना आगे की ना सोचने और प्रगति को उल्टा कर देना जैसा है.

बता दें कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को यूएन की प्रतिबंधित आतंकी संगठनों की सूची में पहले ही डाला जा चुका है लेकिन मसूद अजहर को बार-बार चीन बचा रहा है. चीन वीटो शक्ति का इस्तेमाल कर इस प्रस्ताव को यह कहकर खारिज कर दिया है कि इस पर सर्वसम्मति नहीं है.



loading...