दुआओं ने दिखाया दम, 110 फुट गहरे बोरवेल में गिरी 3 साल की सना को निकाला गया

बालिका गृह कांड: तेजस्वी ने सीेएम नीतीश से पूछे कई तीखे सवाल, मांगा इस्तीफा

लालू यादव को हाईकोर्ट से राहत, 20 अगस्त तक के लिए बढ़ी जमानत अवधि

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेपकांड: बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने इस्तीफा दिया

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण में आरोपी ब्रजेश ठाकुर ने किया चौकाने वाला खुलासा, कहा- कांगेस से चुनाव लड़ना चाह रहा था

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा- कोई हंसते हुए धरना देता है, सभी शेल्टर होम पर DM रखें नजर

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में सामने आया चौकाने वाला खुलासा, सरकारी फंड पाने के लिए सेक्स रैकेट चलाता था ब्रजेश ठाकुर

2018-08-02_Sana.jpg

बिहार के मुंगेर में 110 फुट गहरे बोरवेल में गिरी 3 साल की मासूम सना को आखिरकार 28 घंटे की कड़ी मेहनत के बाद बाहर निकाल लिया गया है. इस दौरान 29 घंटे 40 मिनट तक बच्ची भूखी-प्यासी गड्ढे में फंसी रही. हालांकि, इस दौरान पाइप के जरिये बच्ची तक ऑक्सीजन पहुंचाई जाती रही. जिले के एसपी ने बताया कि बच्ची पूरी तरह ठीक है. राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रेस्क्यू टीम को बधाई दी है.

आपको बता दें कि बच्ची को बचाने के लिए एसडीआरएफ, एनडीआरएफ के साथ स्थानीय प्रशासन की टीमें लगी थीं. एसडीआरएफ की टीम ने बच्ची को बचाने के लिए 45 फुट गहरा गड्ढा खोदा था. घटनास्थल के पास एक एंबुलेंस तैयार रखी गई थी जिसमें सना की मां, डॉक्टर और परिवार के अन्य सदस्य मौजूद थे. जिले के डीएम और एसपी भी मौके पर ही डटे थे.

रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान बच्ची के स्वास्थ्य पर सदर अस्पताल के डॉ. फैज नजर बनाए हुए थे. सना पर सीसीटीवी कैमरे से भी नजर रखी जा रही थी. उसे लगातार ऑक्सीजन दी जा रही थी. बेहतर इलाज के लिए बच्ची को पटना रेफर कर दिया गया है.

आपको बता दें कि सना मंगलवार की शाम घर में खेल रही थी. इसी दौरान लगभग तीन बजे वह घर में मौजूद बोरवेल में गिर गई. बच्ची की सकुशल बरामदगी के लिए दुआओं का दौर जारी था. पटना समेत राज्य के अलग-अलग हिस्सों में लोग सना के लिए पूजा पाठ और हवन कर रहे थे.



loading...