पंजाब में टूट की कगार पर आम आदमी पार्टी, राज्‍य इकाई को 'स्वायत्त' घोषित किया

खतरे में कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू की आवाज, डॉक्टरों ने दी आराम की नसीहत

बैकफूट पर नवजोत सिंह सिद्धू, कहा- गंदी राजनीति खेलनी मुझे नहीं आती, कैप्टन मेरे पिता समान खुद ही निपट लूंगा

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने रखी करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला, सीएम अमरिंदर सिंह ने पाक को दी चेतावनी

आज उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू रखेंगे करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला, करीब आएंगे भारत-पाकिस्तान!

अमृतसर हमला: निरंकारी भवन पर हमला करने वाला दूसरा आतंकी गिरफ्तार, पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार किए बरामद

पंजाब में हाई अलर्ट जारी, पठानकोट में सेना की वर्दी में दिखे 2 संदिग्ध आतंकी, सर्च ऑपरेशन जारी

2018-08-03_PunjabAAPIkai.jpg

सुखपाल सिंह खैरा के नेतृत्व में आप विधायकों के एक समूह ने गुरुवार को पार्टी की पंजाब इकाई को ‘स्वायत्त’ घोषित कर दिया और इसके वर्तमान सांगठनिक ढांचे को भंग कर दिया. लेकिन यहां एक सार्वजनिक बैठक के दौरान इस प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए खैरा ने दिल्ली में नेतृत्व को एक हफ्ते का समय दिया कि उन्हें पंजाब में विधायक दल के नेता पद से हटाने के निर्णय की समीक्षा करे.

पद से हटाए जाने के बाद भोलथ के विधायक की तरफ से बुलाई गई कार्यकर्ताओं की बैठक में 20 आप विधायकों में से आठ ने हिस्सा लिया. आप नेतृत्व ने पंजाब के सभी विधायकों को दिल्ली तलब कर संकेत दिए कि वे पार्टी विरोधी मुहिम के साथ नहीं हैं. उनमें से कम से कम 11 विधायक राजधानी में नेताओं से मिलने आए.

आप की राज्य इकाई के सह-अध्यक्ष बलवीर सिंह ने कहा कि बठिंडा सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले विधायक एवं अन्य नेताओं को गुमराह’ किया गया है और उम्मीद जताई कि पार्टी को मजबूत करने के लिए आने वाले दिनों में वे पार्टी लाइन का पालन करेंगे. उन्होंने बयान जारी कर कहा, राज्य और केंद्रीय नेतृत्व से सलाह-मशविरा किए बगैर आम आदमी पार्टी के बैनर तले सम्मेलन का आयोजन करना अवैध है और नेताओं को भविष्य में इस तरह की गतिविधियों से बचना चाहिए.

आम आदमी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को खुली चुनौती देते हुए विपक्ष के नेता पद से हटाए गए सुखपाल सिंह खैरा ने गुरुवार को बठिंडा में एक सम्मेलन आयोजित किया था. खैरा ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि यह सम्मेलन यह बताने के लिए आयोजित किया गया है कि पंजाब में आप नेताओं और कार्यकर्ताओं के पास अपने विचार रखने और इन्हें व्यक्त करने का अधिकार है.

रिपोर्ट के अनुसार, पंजाब विधानसभा में आप के 20 में से 11 विधायक दिल्ली में मौजूद थे जबकि अन्य विधायक सम्मेलन में शामिल हुए. खैरा ने कहा, मेरी लड़ाई पंजाब के भले के लिए है. मैं किसी पद का आकांक्षी नहीं हूं. मैं सभी पंजाबियों के लिए आवाज उठाऊंगा. प्रदेश को बादल परिवार और अमरिंदर सिंह के बुरे शासन ने बरबाद कर दिया. यह मेरी नहीं बल्कि पंजाब की लड़ाई है.



loading...