सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, NEET 2018 और अन्य एग्जाम के लिए आधार जरूरी नहीं

2018-03-07_NEET-2018.jpg

सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल एलिजिबलिटी कम एंट्रेस टेस्ट (NEET) समेत ऑल इंडिया लेवल की सभी परीक्षाओं में आधार को लेकर अंतरिम आदेश दिया। कोर्ट ने बुधवार को सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) से कहा कि इस साल नीट परीक्षा के लिए आधार जरूरी नहीं किया जाए। आधार की संवैधानिक वैधता पर फैसला होने तक यह आदेश तक जारी रहेगा। बता दें कि सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में 5 जजों की बेंच नीट के नोटिफिकेशन के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। नीट के लिए फॉर्म भरने की आखिरी तारीख 9 मार्च है, परीक्षा 6 मई को होगी।

सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा है कि नीट 2018 के लिए फॉर्म भरते वक्त स्टूडेंट्स के लिए आधार को जरूरी नहीं किया जाना चाहिए। साथ ही बोर्ड इसकी जानकारी अपनी वेबसाइट पर भी अपलोड करे। दूसरी ओर, आधार अथॉरिटी यूआईडीएआई ने कोर्ट से कहा कि हमने सीबीएसई को ये अधिकार नहीं दिया है कि वो मेडिकल एंट्रेस टेस्ट में फॉर्म भरने या बैठने के लिए आधार को जरूरी करे।

एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि यूआईडीएआई की ओर से पहले ही बताया जा चुका है कि जम्मू-कश्मीर, असम और मेघालय जैसे राज्यों के स्टूडेंट्स सीबीएसई की ऑल इंडिया लेवल परीक्षाओं में पहचान के तौर पर पासपोर्ट, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी और बैंक पासबुक इस्तेमाल कर सकते हैं।



loading...