अरे ये क्या! उत्तराखंड के इस गांव के सभी 800 लोग 1 जनवरी को पैदा हुए

यूपी के बाद अब उत्तराखंड में भी पॉलीथिन के इस्तेमाल पर लगा बैन, सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दिए आदेश

दिल्ली में भारी बारिश की वजह से संसद भवन परिसर में भरा पानी, उत्तराखंड में बादल फटने से 2 की मौत

उत्तराखंड: चमोली में बरसी आसमानी आफत, बादल फटने से कई दुकानें और गाड़ियां क्षतिग्रस्त, भारी बारिश की चेतावनी

उत्तराखंड: पिथौरागढ़ में मूसलाधार बारिश से भारी नुकसान, हाइड्रो प्रोजेक्ट बहा, दर्जनों मकान ढहे

उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल में बस के गहरी खाई में गिरने से 48 की मौत, हादसे की असली वजह आई सामने

जनता दरबार में बुजुर्ग शिक्षिका ने मांगा ट्रांसफर, वाद-विवाद के बीच भड़के सीएम ने कर दिया सस्पेंड

2017-10-28_goof-up-aadhaar.jpg

सरकार एक तरफ सभी सरकारी सेवाओं में आधार को जरूरी करती जा रही हैं वहीं दूसरी तरफ इसमें तमाम तरह की गड़बड़ियों की घटनाएं भी सामने आ रही हैं. हाल ही उत्तराखंड के एक खाटा गांव में लोगों को बांटे गए आधार कार्ड में बड़ी चूक सामने आई है. यहां हर व्यक्ति के आधार कार्ड पर जन्मतिथि की तारीख एक ही है.

हरिद्वार से 20 किलो मीटर दूर स्थित इस गांव में लगभग 800 लोग रहते हैं और सभी की आधार कार्ड पर जन्म की तारीख 1 जनवरी है. हालांकि साल अगल-अलग हैं. 

ग्रामीणों का कहना है कि उन्होंने आधार कार्ड बनवाने के लिए एजेंसी को सभी जरूरी प्रमाण जैसे राशन कार्ड, वोटर आई डी दिए थे. इसक बावजूद इस तरह की लीपरवाही हुई है.

बता दें ये मामला पहला नहीं है जब एक गांव के सभी लोगों की आधार पर जन्म की तारीख एक ही पाई गई है. इससे पहले उत्तर प्रदेश के आगरा और इलाहाबाद जिले में कुछ गांवों से ऐसे मामले देखने को मिले थे. बैंक अकाउंट से लेकर मोबाइल नंबर तक के लिए जरूरी होते आधार को लेकर इस तरह की लापरवाही विशिष्ट पहचान प्रणाली पर सवाल खड़े करती है.



loading...