टैंकर घोटालाः एंटी करप्शन ब्रांच ने की केजरीवाल के सचिव से पूछताछ

दिल्ली: पति ने बच्चों के सामने की पत्नी की हत्या, सिर पर हथौड़ा मार कर ली जान

नहीं रहे दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस राजिंदर सच्चर, 94 साल की उम्र में हुआ निधन

अतुल माहेश्वरी छात्रवृति 2017 में उपराष्ट्रपति ने किया बच्चों को सम्मानित, उपराष्ट्रपति भवन में सम्पन्न हुआ अवार्ड समारोह

दिल्ली वालों के लिए खुशखबरी: बिन बताए बिजली कटी तो हर घंटे में मिलेंगे इतने रुपए

शर्मनाक: कैब में महिला के सामने उबेर ड्राइवर ने की गंदी हरकत, गिरफ्तार

होली में डीयू की छात्राओं पर फेंके गुब्बारे में सीमेन नहीं था, फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी का दावा, भेजे गये सैंपल में ऐसा कुछ नहीं आया

2017-05-17_kejriwal-water-tanker-scam.jpg

भ्रष्टचार के आरोपों में फंसे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को एंटी करप्शन ब्रांच ने एक और झटका दिया है। दिल्ली टैंकर घोटाले में एसीबी ने केजरीवाल के निजी सचिव और राजनीतिक सलाहकार विभव कुमार से पूछताछ की। बता दें कि इससे पहले उन्हें 14 मई को समन जारी किया गया था।। एसीबी ने कपिल मिश्रा के आरोपों और सबूतों के आधार पर विभव कुमार से पूछताछ की। 

कपिल मिश्रा ने टैंकर घोटाले को लेकर पिछले दिनों उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात की थी। उन्होंने केजरीवाल पर 2 करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाने के साथ ही उनके राजनीतिक सलाहकार आशीष तलवार व निजी सचिव विभव पटेल पर टैंकर घोटाले की फाइल दबाकर पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को बचाने का आरोप भी लगाया था।

वाटर टैंकर घोटाले में आरोप है कि 2012 में दिल्ली जल बोर्ड ने 385 स्टील के टैंकर किराए पर लिए थे। उस समय शीला दीक्षित सीएम के साथ ही दिल्ली जल बोर्ड की अध्यक्ष भी थीं। आरोप है कि जो टैंकर लिए गए थे, उसमें करीब 400 करोड़ का घोटाला हुआ था।

टैंकर घोटाला मामला साल 2009 से लेकर 2015 के बीच का है। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार आने के बाद घोटाले का जिन्न बाहर आया। आम आदमी पार्टी के विधायक और पूर्व जल मंत्री कपिल मिश्रा ने इस मामले की शिकायत एसीबी से की।



loading...