विडियो: ऑपरेशन के लिए ज़रूरत थी पैसों की, मगर पिता ने नहीं दिए

2017-05-18_sai-sri.jpg

मामला आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा का है. लड़की का नाम साई श्री (13) था. उसे बोन मैरो कैंसर था. उसकी मां 40 लाख रुपए खर्च कर चुकी थी अपनी ही बच्ची को नहीं बचाया एक निर्दय पिता ने. 13 साल की साई श्री अपने पिता से इलाज़ के लिए गुहार लगाती रही, वह कहती रही कि घर बेच दो, लेकिन मेरे कैंसर का इलाज कराओ. आखिर में लड़की कैंसर से जिंदगी की जंग हार गई. 

मौत के बाद उसका वीडियो मैसेज वायरल हो गया, जो उसने पिता को वॉट्सऐप पर भेजा था. पिता शिव कुमार ने साई श्री और उसकी मां सुमा श्री को 8 साल पहले छोड़ दिया था. अलग होने से पहले मां-बाप ने बेटी साई श्री के नाम से ही दुर्गापुरम में घर खरीदा था. 

पिता के छोड़कर जाने के बाद मां-बेटी वहीं रहते थे. बाद में साई श्री को कैंसर हो गया. कुछ महीने पहले जब उसकी हालत काफी खराब हो गई तो उसने इलाज के लिए पिता से घर बेच देने को कहा. मां सुमा श्री पहले ही इलाज पर 40 लाख रुपए खर्च कर चुकी थी और उसके पास अब और पैसे नहीं थे. लिहाजा, साई श्री ने वीडियो मैसेज भेजकर पिता से हॉस्पिटल में भर्ती कराने की रिक्वेस्ट की, लेकिन पिता ने कोई जवाब नहीं दिया.

साई श्री ने अपने वीडियो मैसेज में पिता से कहा था, "मैं स्कूल जाना चाहती हूं और दोस्तों के साथ खेलना चाहती हूं." उसने पिता से वीडियो चैट करने को भी कहा था, ताकि पिता को वह अपनी बिगड़ती हालत के बारे में बता सके. 

साई श्री ने पैसों के इंतजाम के लिए घर बेच देने की इजाजत मांगी, लेकिन वह भी बेकार रहा. आखिरकार, 14 अप्रैल को साई श्री की मौत हो गई. मां सुमा श्री ने हसबैंड शिव कुमार पर आरोप लगाया है कि उसने वीडियो मैसेज वायरल होने से नाराज होकर उन्हें घर खाली करने की धमकी दी. साथ ही यह भी कहा कि शिव कुमार ने तेलुगू देशम पार्टी के एमएलए बोंदा उमामहेश्वर राव की मदद से घर खाली कराने के लिए गुंडे भेजे. शिव कुमार एमएलए का सपोर्टर है. हालांकि एमएलए ने आरोपों को गलत बताया है.

इस मामले में पुलिस पर गुंडों के खिलाफ शिकायत नहीं दर्ज करने का आरोप लगा है. विजयवाड़ा के डीसीपी पालाराजू ने कहा है, "साई श्री की मां को घर खाली करने के लिए फोन से धमकाया जा रहा था, उन्होंने इसकी शिकायत दर्ज कराई है."
 



loading...