जम्मू कश्मीर में शहीद जवान परमजीत का शव पहुंचा घर, बेटियों ने कहा कि उन्हें अपने पिता का पूरा शव चाहिए, आधा अधूरा नहीं

2017-05-02_PARAMJET-newnreport-ani-meet-65754.jpg

कल कृष्णा घाटी में पाकिस्तान की गोलीबारी और राकेट हमले में दो जवानों बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर और सेना के नायब सूबेदार परमजीत सिंह शहीद हो गए थे. शहीद जवानों में से एक जवान परमजीत का शव आज सेना के द्वारा घर पहुंचाया गया. जम्मू कश्मीर में शहीद जवान परमजीत का शव आज उनके गृहनगर परिवार के पास भेज दिया गया. तरनतारन में शहीद परमजीत के घर पर भारी भीड़ जुटी हुई थी. जैसे ही शहीद का शव पहुंचा घर में पसरा मातम चीत्कारों में बदल गया. मां, पत्नी, बेटियों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया. बेटियों ने कहा कि उन्हें अपने पिता का पूरा शव चाहिए, आधा अधूरा नहीं. बेटे ने भी शहीद पिता को अंतिम सलामी दी. इस दौरान यहां मीडिया की भी भारी भीड़ रही.

शहीद के पिता ऊधम सिंह ने कहा कि परमजीत 10 मई को छुट्‌टी पर आने वाले थे, लेकिन उनकी शहादत की खबर आ गई. देश के लिए बलिदान सम्मान की बात है. शहीद परमजीत के भाई ने कहा कि वह अपना घर बनवा रहा था, जल्द शिफ्ट होने का प्लान था. लेकिन इसकी जगह अब उसका शव आ रहा है. भाई रणजीत सिंह ने कहा कि शव से एक भी अंग गायब हुआ तो सरकार से हिसाब मांगेंगे.

परिवार ने पूछा, ये किसका शव है? जो है बॉक्स के अंदर है, हमें बॉडी दिखाई नहीं जा रही है. क्यों? परिवार वालों ने शवयात्रा रोक भी ली और परमजीत के अंतिम दर्शन की मांग की.

तरनतारन के रहने वाले परमजीत सिंह सेना की सिख रेजीमेंट में जूनियर कमीशन अधिकारी के तौर पर नायब सूबेदार के पद पर तैनात थे. कल कृष्णा घाटी में पाकिस्तान की गोलीबारी और राकेट हमले में दो जवानों बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर और सेना के नायब सूबेदार परमजीत सिंह शहीद हो गए थे. इसके बाद पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम यानि बैट ने दोनों जवानों के सिर काट लिए थे.

कल की इस घटना के बाद सेना ने साफ कर दिया था कि वह इसका उचित तरीके से सख्त जवाब दिया. इसके बाद रात तक खबर आई कि भारतीय सेना ने करारा जवाब देते हुए पाकिस्तान की दो पोस्ट को तबाह कर दिया जिसमें सात पाक सैनिक मारे गए. वहीं, इस घटना के बाद एलओसी पर तनाव बना हुआ है. इधर, दिल्ली में बैठकों का दौर शुरू हो गया है. तथा पाकिस्तान की इस नापाक हरकत का कैसे आगे तक के लिए रोका जाये इस पर सरकार कोई बड़ा फैसला ले सकती है.



loading...