चुनाव चिन्ह घूस मामला: शशिकला का भतीजा दिनाकरन अरेस्ट, EC को की थी 50 करोड़ की घूस की पेशकश

2017-04-26_shashikala-and-his-nephew.jpg

50 करोड़ की घूस की पेशकश करने वाले दिनाकरण को दिल्ली पुलिस ने किया अरेस्ट. चुनाव चिह्न घूस मामले में शशिकला के भतीजे और AIADMK नेता टीटीवी दिनाकरन पर पार्टी का जब्त किया गया दो पत्तियों वाला चुनाव चिह्न हासिल करने के लिए चुनाव आयोग के ऑफिशियल्स को 50 करोड़ रुपए की रिश्वत की पेशकश करने का आरोप है. 

दिनाकरन के करीबी दोस्त मल्लिकार्जुन को भी पुलिस ने अरेस्ट किया है. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दिनाकरन से 4 दिन तक लगातार पूछताछ करने के बाद उन्हें मंगलवार देर रात अरेस्ट किया. पुलिस ने बताया कि दिनाकरन ने बिचौलिए सुकेश चंद्रशेखर से मुलाकात की बात कबूल की है. 

स्पेशल जज पूनम चौधरी ने पुलिस से कहा था, "सारे आरोप दिनाकरन खिलाफ हैं, कोर्ट को वो कॉल डिटेल्स दिखाएं जिनसे साबित होता है कि सुकेश ने दिनाकरन से बातचीत की थी." 

सूत्रों का दावा है कि सौदेबाजी में मल्लिकार्जुन भी शामिल थे. दिनाकरन के खिलाफ इस मामले में 17 अप्रैल को एफआईआर दर्ज की गई थी. एक स्पेशल कोर्ट ने कहा था कि जब दिनाकरन पर चुनाव आयोग को घूस देने की कोशिश करने का आरोप है तो पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं करती? 

पुलिस ने दिनाकरन की कस्टडी 3 दिन बढ़ाने की मांग की थी, जिसकी इजाजत देते हुए कोर्ट ने यह टिप्पणी की थी. पुलिस ने इसके बाद ही दिनाकरन को अरेस्ट करने का फैसला किया.

आरके नगर असेंबली सीट पर बाईपोल को लेकर वीके शशिकला और ओ. पन्नीरसेल्वम, दोनों ही गुट ने दो पत्तियां चुनाव चिह्न पर दावा किया था. जिसके बाद चुनाव आयोग ने इसे जब्त कर लिया था. आयोग ने शशिकला खेमे को टोपी और पन्नीरसेल्वम खेमे को बिजली का खंभा चुनाव चिह्न आवंटित किया था. 

इस असेंबली सीट के लिए 12 अप्रैल को चुनाव होना था, लेकिन आयोग ने इसे यह कहते हुए कैंसल कर दिया कि राजनीतिक दलों ने पैसे का इस्तेमाल कर इलेक्टोरल प्रॉसेस को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाया है. शशिकला की तरफ से दिनाकरन ही इस सीट से कैंडिडेट थे.
 



loading...