ताज़ा खबर

 

असम

रोहिंग्या के लिए प्रार्थना सभा कराने पर BJP नेता सस्पेंड, मोदी से मांगा इंसाफ

असम की बीजेपी नेता बेनज़ीर अरफान को रोहिंग्या मुसलमानों के समर्थन में आवाज उठाना भारी पड़ा. उन्हें पार्टी से सस्पेंड कर दिया गया. बेनज़ीर ने राज्य में बीजेपी की ओर से एंटी ट्रिपल तलाक कैंपेन का चेहरा रही थी. वह खुद ट्रिपल तलाक की विक्

माता-पिता की देखभाल नहीं की तो कटेगी सैलरी, असम में पास हुई नया कानून

असम विधानसभा ने माता-पिता की देखभालसुनिश्चित करने के लिए शुक्रवार को एक अहमविधेयक को ध्वनिमत से मंजूरीदे दी. इसके अनुसार, अगर राज्य सरकार के कर्मचारी अपने अभिभावकोंऔर दिव्यांग भाई-बहनों की देखभाल नहीं करेंगे तो उनके मासिक वेतनपैसों

ब्लू व्हेल गेम ने बनाया एक और को अपना शिकार, असम में एक छात्र ने बिल्डिंग से लगाई छलांग

ऑनलाइनब्लू व्हेल गेमपर जारी बहस के बीच असम के सिलचर में 22 साल के एक छात्र के बिल्डिंग की छत से कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की खबर आई है. छात्र को अस्पताल में भर्ती कि

असम में बाढ़ से प्रभावित लोगों से मिलने पहुंचे राहुल गांधी, संसद में मदद का मुद्दा उठाने की कही बात

बाढ़ से बुरी तरह ग्रस्त असम में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने लोगों से मुलाकात की और उन्हें मुआवज़े का हक़दार बताया. उन्होंने बाढ़ प्रभावितों का हाल-चाल भी जाना असम के लखीमपुर में बाढ़प्रभावित ग्रामीणों से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा कि

असम पहुंचे PM मोदी, बाढ़ प्रभावित इलाकों का करेंगे मुआयना

असम में बाढ़ के हालातों का जाएजा लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुवाहटी पहुंच गए हैं. यहां पीएम मोदी उच्चस्तरीय बैठक करेंगे और राहत कार्यों का आकलन करेंगे. जानकारी के अनुसार , प्रधानमंत्री मोदी बाढ़ के हालात के मद्देनजर को ध्यान में रख

असम : पुलिस और आर्मी के ज्वाइंट ऑपरेशन में एक आतंकी ढेर, हथियार बरामद

मंगलवार की सुबह असम के कोकराझार में आर्मी, लोकल पुलिस और आतंकियों के मध्य मुठभेड़ हुआ. इस दौरान हुई गोलीबारी में एक आतंकी मारा गया. घटनास्थल से एक AK 47 समेत भारी मात्रा में हथियार और गोलाबारूद बरामद हुआ है.

बाढ़ की चपेट में असम, 44 की मौत, 17 लाख लोग प्रभावित

उत्तर-पूर्वी भारत बुरी तरह बाढ़ की चपेट में है. असम में बाढ़ के चलते 44 लोगों की मौत हो चुकी है और 17 लाख लोगों पर इसका असर पड़ा है. वहीं, अरुणाचल प्रदेश के भी कई हिस्से पानी में डूबे हुए हैं. उत्तराखंड में भी गुरुवार को बारिश जारी

देश के सबसे लंबे पुल का मोदी ने किया उद्घाटन, दिया भूपेन हजारिका का नाम

नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को असम के तिनसुकिया में देश के सबसे लंबे पुल का इनॉगरेशन किया। इस पुल से असम और अरुणाचल प्रदेश की दूरी 165 किमी कम हो जाएगी। मोदी ने कहा, पुल ने 5 दशक का इंतजार खत्म किया। इस ब्रिज को भूपेन हजारिका पुल के नाम से जाना जाएगा। पुल की चीन बॉर्डर से हवाई दूरी 100 क

मानहानि केस में असम की अदालत ने दिल्ली के सीएम केजरीवाल के खिलाफ जारी किया अरेस्ट वारंट

असम की स्थानीय अदालत ने दिल्ली के सीएम वआम आदमी पार्टी के नेताअरविन्द केजरीवाल के खिलाफआपराधिक मानहानि के मामले में गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है. दरअसल पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट में पेश नहीं होने के चलते कोर्ट ने ये वारंट जारी किया है. केजरीवाल

सरकारी नौकरी पाने के लिए अब हम ‘दो हमारे दो’ के नारे पर करना होगा अमल

भारत की जनसंख्या बहुत तेज रफ्तार से बड़ रही है. जिसकी वजह से भारत में काफी परेशानी हो रही है. लोगो को रोजगार तथा स्वास्थ्य सेवाओं के अभाव से जूझना पड़ रहा है. इसको देखते हुए असम की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने रविवार को राज्य की जनसंख्या नीति का मसौदा जारी किया, जिसमें सुझाव पेश किया गया है कि जिनके

नाहिद आफरीन के खिलाफ 42 मौलवियों ने जारी किया फतवा, मुख्यमंत्री ने दिया सुरक्षा का आश्वासन

असम में 42 मौलवियों ने एक 16 साल की सिंगर नाहिद आफरीन के ख़िलाफ फतवा जारी किया है। नाहिद साल 2015 में म्यूजिकल रिऐलिटी टीवी शो इंडियन आइडल जूनियर की फर्स्ट रनर अप रह चुकी हैं। नाहिद के ख़िलाफ यह फतवा कब्रिस्तान और मस्जिद के नजदीक प्रोग्राम आयोजित करने को लेकर जारी किया गया। नाहिद ने फतव

असम: अश्लील वीडियो में दिखे BJP MLA, कहा- ये मेरे खिलाफ साजिश, आरोप साबित होने पर छोड़ दूंगा राजनीति

असम में एक सेक्स वीडियो वायरल हुआ है। जिसमें महिला के साथ आपत्तिजनक हालत में दिख रहे शख्स को बीजेपी का MLA रमाकांत देउरी बताया गया है। हालांकि देउरी ने वीडियो में खुद की मौजूदगी से इनकार किया है। उन्होंने इसे अपने खिलाफ राजनीतिक साजिश करार दिया है। विधायक रमाकांत देउरी ने कहा, वीड

6 धमाकों से दहला उठा असम, किसी के हताहत होने की खबर नहीं

आज जहां पूरा देश 68वां गणतंत्र दिवस मना रहा है, वहीं ऊपरी असम और नगालैंड सीमा पर करीब 6 धमाकों से पूरा असम दहल गया है। हालांकि इनमें अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं आई है। इनमें उल्फा आतंकियों के हाथ होने की आशंका जताई जा रही है।ऊपरी असम के चरायदेवो में दो जगहों पर और पानिजान में एक पेट्रोल


Page1 of 2
  • रोहिंग्या मुसलमान देश में फैला सकते हैं ‘अराजकता’ - राज महाजन

    रोहिंग्या मुसलमान देश में फैला सकते हैं ‘अराजकता’ - राज महाजन

    आजकल रोहिंग्या मुसलमान लाइम-लाइट में आ गये हैं। भई सारा देश उनके बारे में बातें जो कर रहा है। ये आम मुसलमानों की तरह नहीं है ये म्यांमार के रहने वाले हैं। चर्चा का विषय बने इन मुसलमानों को भारत में रहने देना चाहिए या नहीं? ये सवाल आज-कल चहुँ ओर सुनाजा रहा है और हो भी क्यूँ न। इनके भारत में आने से देश में अराजकता का माहौल बन गया है। अभी तो इनका पलायन पूर्ण रूप से हुआ नहीं है, तब हिन्दुस्तान कई गुटों में बंट रहा है। बुद्धिजीवी इसपर अपनी-अपनी राय कायम कर रहे हैं। सब एक-दूसरे को दोषी मानकर कटघरे में खड़ा करना चाहते हैं।

     देखा जाए तो रोहिंग्या मुसलामानों का रहना या न रहना हिंदुस्तान का मुद्दा नहीं है। अपितु यह एक अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा है, लेकिन हमारे देश में इस पर आजकल हिन्दू-मुस्लिम की राजनीति हो रही है। हमारे नेताओं को बस एक मौका मिलना चाहिए जिसके जरिये हिन्दू और मुसलमान में अलगाव पैदा किया जा सके। उनमें अराजकता भड़काई जा सके।

    अब सवाल उठता है, असल में कौन है ये रोहिंग्या मुसलमान?

    रोहिंग्या स्वयं को दूसरे मुसलामानों से एक दम अलग मानते हैं। यह एक नस्लीय समूह से आते हैं। इनकी भाषा और संस्कृति सभी देशों से बिल्कुल अलग है। रोहिंग्या खुद को म्यांमार के  रखाइन राज्य का निवासी मानते हैं। खुद को ही एक गढ़े हुए ढ़ांचे में पहले ही फिट कर रखा है।

    रोहिंग्या मुस्लिम काफी संख्या में भारत में पहले से ही रह रहे हैं। इस बीच कुछ सांप्रदायिक लोग उन्हें इन हालातों में म्यांमार वापस भेजने की बात उठा रहे हैं। जबकि अंतरराष्ट्रीय लॉ और इंसानियत दोनों इसकी इजाजत नहीं देते. 

    आपको पता है, इस समय हमारे देश में लगभग 40 हजार रोहिंग्या मुसलमान रह रहे हैं। इसी के बाद भी किसी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। जिसमें कहा गया कि रोहिंग्या मुसलमान भारत में ‘रजिस्टर्ड रिफ्यूजी’ हैं और उन्हें वापस भेजना संविधान के आर्टिकल 14 और आर्टिकल 21 का उल्लंघन है। आर्टिकल 14 में समानता का अधिकार वर्णित है और आर्टिकल 21 जीने का अधिकार उल्लिखित है। इन्हें लेकर सरकार का मानना है कि ये अवैध प्रवासी आंतकवादी संगठनों में शामिल हो सकते हैं। इसलिए इन्हें वापस भेज देना चाहिए। इनसे देश की सुरक्षा खतरे में आ सकती है।

    इस मामले को लेकर कई ‘बुद्धिजीवियों’ ने अपने-अपने मत रखे हैं। दिल्ली के जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कहा कि म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों पर जिस बर्बरता से जुल्म हो रहा है, वह इंसानियत को शर्मसार करने वाला है। मोदी सरकार से हम उम्मीद करते हैं कि इंसानी हमदर्दी के तहत म्यांमार सरकार पर दबाव बनाएं, ताकि हिंसा और निर्दोष लोगों की मौतों को रोका जा सके।

    जमात-ए-इस्लामी हिंद के महासचिव सलीम इंजीनियर कहते हैं कि हम उम्मीद करते थे पीएम नरेंद्र मोदी रोहिंग्या मुस्लिमों के मामले में खुलकर म्यांमार में बोलेंगे, लेकिन उन्होंने मायूस किया है। भारत का बर्मा के साथ एक संबंध रहा है। ऐसे में भारत रोहिंग्या मुस्लिम के मुद्दे का समाधान कर सकता है।

    शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे रुशैद कहते हैं, मैं हमेशा से मज़लूम के साथ और जालिम के खिलाफ रहा हूं। किसी भी सरकार को चलाने के लिए दो ही चीजों की आवश्यता है -ईमान और इंसानियत। रोहिंग्या मुस्लिमों की तस्वीर देखकर ये एहसास हुआ कि म्यांमार सरकार जालिम हो चुकी है। वहां न तो इंसानियत है और न ही ईमान बचा है अब लोगों के पास।

    वहीँ, मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य कमाल फारुकी कहते हैं, म्यांमार में बहुत समय से रोहिंग्या मुस्लिमों पर जुल्म हो रहा है और सारी दुनिया से लेकर UN तक खामोश है। शांति के लिए आंग सान सू को मिला नोबल पुरस्कार वापस लिया जाना चाहिए। भारत में इन पीड़ितों को धर्म के चश्मे से देखा जा रहा है। इस मामले में  भारत के केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रीजिजू का बयान शर्मसार करने वाला है। हिंदुस्तान की तहज़ीब हमेशा पीड़ितों की मदद करने की रही है। फिर चाहे श्रीलंका से आए तमिल हों या अफगानिस्तान के अफगानी। सबको यहाँ शरण दी गई। यहाँ तक कि बंग्लादेश से आए हुए हिंदुओं को तो नागरिकता देने की बात कही गई, लेकिन मजलूम रोहिंग्या मुसलमानों को बाहर खदेड़ने की बात कही जा रही है।

    अब सवाल उठता है कि क्यूँ म्यांमार रोहिंग्या मुसलामानों पर अत्याचार कर रहा है? दरअसल, म्यांमार में 10 लाख से अधिक रोहिंग्या बसते हैं, पर म्यांमार उन्हें अपना नागरिक मानने को तैयार नहीं है। न ही इस प्रजाति को कोई सरकारी आईडी या चुनाव में भाग लेने का अधिकार दिया गया है। म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों पर हो रही हिंसा का कारण है 25 अगस्त को हुआ हमला। 25 अगस्त को करीब 150 लोगों ने हथियारों के साथ पुलिस के 24 कैम्पस पर हमला बोल दिया था। हमला म्यांमार के रखाइन राज्य में ही हुआ था। इस हमले में 71 लोगों की मौत भी हो गई थी। हमले की ज़िम्मेदारी Arkan Rohingya Salvation Army नामक आंतकवादी संगठन ने ली थी जिसे अता उल्लाह नामक आतंकवादी चलाता है। जोकि खुद एक रोहिंग्या मुस्लिम है।

    भारत में सियासी खेल

    मोदी सरकार गैरकानूनी ढंग से रहे इन 40 हज़ार रोहिंग्या समुदाय को देश से बाहर करने के मूड में है। रोहिंग्या मुसलमानों का वजूद म्यांमार से जुड़ा है, जहाँ से इनकी नागरिकता का अधिकार छीन लिया गया है। जिसके बाद ये अलग-अलग देशों में जा कर बस गए हैं। पर सवाल है कि आखिर म्यांमार के ये मुसलमान असम से लेकर दिल्ली तक के शरणार्थी कैंप में कैसे फ़ैल गये? क्या इसके पीछे भी कोई सियासी साजिश है? सुरक्षा एजेंसी इस समुदाय को देश के लिए खतरा मानती है। इतनी महत्वपूर्ण बातों के चलते कांग्रेस के कुछ नेता इन मुसलमानों के प्रति अपने दिल में सॉफ्ट कॉर्नर रखते हैं। उनका कहना है कि ये समुदाय मुसलमान है, इसलिए इन्हें भारत से बाहर फेंका जा रहा है। अब सवाल उठता है कि क्या देश की सुरक्षा की कीमत पर सियासत हो रही है?

    मैं तो कहता हूँ कोई इन कांग्रेसी नेताओं से जाकर कहे कि जितने भी रोहिंग्या मुस्लिम बच गये हैं, उन्हें अपने आलीशान घरों में रहने की जगह दें। अरे जिन लोगों ने अपने ही देश में हमला किया हो वो किसी और देश को क्या महफूज़ रहने देंगे। बिलकुल नहीं। यह मामला अन्तर्राष्ट्रीय है और इसे अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ही हल करना चाहिए। किसी भी समुदाय को शरणार्थी बनाने से पहले भारत को उसके हर प्रभाव या दुष्प्रभाव के बारे में शांत दिमाग से विचार करना होगा।

    यह बात सिर्फ किसी को देश में शरण देने की नहीं बल्कि देश के नागरिकों की सुरक्षा की है, जिससे किसी भी कीमत पर खिलवाड़ नहीं किया जा सकता।

  • ‘स्कूल’ हैं सबसे ज़्यादा असुरक्षित – राज महाजन

    ‘स्कूल’ हैं सबसे ज़्यादा असुरक्षित – राज महाजन

    8 सितम्बर को हुआ इंसानियत को शर्मशार करने वाला  काण्ड. एक बच्चा रोज की तरह अपने स्कूल जाता है. लेकिन उस दिन वह घर वापिस नहीं आता. अपने पीछे छोड़ गया वो खिलखिलाती सी मुस्कान, मीठी बातें और कई ‘अनसुलझे सवाल’. गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले प्रद्युम्न का मर्डर क्या सच में बस कंडक्टर अशोक ने किया है? कैसे कंडक्टर स्कूल में चाकू लेकर दाखिल हो जाता है? क्यूँ उसने प्रद्युम्न को ही अपना शिकार बनाया? क्या प्रद्युम्न ने स्कूल में कुछ ऐसा देखा था कि जिसकी वजह से उसे मौत के घाट उतार दिया गया?

    सिर्फ एक प्रद्युम्न के साथ ही ऐसा नहीं हुआ है. पिछले कुछ दिनों में यह फेहरिस्त काफी लम्बी हो गयी है. बेंगलुरु में भी स्कूल के ही चपरासी ने चार साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म किया. घटना का ख़ुलासा तब हुआ जब बच्ची ने प्राइवेट पार्ट में दर्द की शिकायत घरवालों से की. ऐसी ही एक घिनौनी हरकत देखने को मिली दिल्ली के गांधीनगर के पब्लिक स्कूल में. टैगोर पब्लिक स्कूल के गार्ड ने पांच साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म किया. गार्ड ने क्लासरूम में ले जाकर बच्ची को पहले मारने की धमकी दी और फिर उससे दुष्कर्म किया. इसके अलावा नई दिल्ली के वसंतकुंज में छह साल के एक बच्चे की वाटर टैंक में डूबकर मौत हो गई। इससे पहले गाजियाबाद के प्राइवेट स्कूल में एक बच्चा रहस्यमय मौत का शिकार हो चुका है।

    ऐसी घटनाओं के बाहर आने से इंसानियत तो शर्मशार हुई है. साथ ही इन सभी वारदातों से ये बात भी सामने आई है कि स्कूल में बच्चों की सुरक्षा किसके जिम्मे है? अभिभावक अपने बच्चों को पढ़ने के लिए स्कूल भेजते हैं, इसी भरोसे के साथ कि घर के बाहर बच्चा स्कूल में सुरक्षित रहेगा. लेकिन उनके नौनिहालों के साथ इस तरह का कुकृत्य घट जाता है. इसकी जवाबदेही किसकी है?

  • पुलिस द्वारा अपने जुर्म को छिपाने की कोशिश- राज महाजन

    पुलिस द्वारा अपने जुर्म को छिपाने की कोशिश- राज महाजन

    क़ानून का काम होता है समाज की रक्षा करना और गुनह्गारों को सजा दिलाना. लेकिन आजकल के परिपेक्ष्य में क़ानून निर्दोष और मासूमों पर जुल्म करता दिख रहा है. जरा सोचिये अगर रक्षक ही भक्षक बन जाए तो फिर समाज का क्या होगा? इस तरह से समाज गर्त में चला जायेगा.

    हाल ही में हुआ मंगलापुरी का संस्करण इसी बात की गवाही देता है कि पुलिस बन गयी है भक्षक. इस मामले में पुलिस एक महिला पत्रकार को जानवरों की तरह मारती है, उसका शोषण करती है, उसे मानसिक रूप से परेशान करती है. इतना ही नहीं अपनी दबंगई दिखाने के चक्कर में पुलिस उसको झूठे आरोपों के तहत फंसाने का प्रयास भी करती है.

    यह घटना घटी है न्यू मॉर्निंग की महिला पत्रकार प्रीती सुन्द्रियाल के साथ. DDA मंगलापुरी में अवैध रूप से रह रहे लोगों को उनकी झुग्गियों समेत वहां से हटाने गई थी. साथ में सरकारी काम सुचारू रूप से चले इसके लिए पुलिस भी तैनात थी. हालाँकि उस जमीन पर कोर्ट का स्टे ऑर्डर होने के बावजूद भी DDA वहां पहुँच जाता है. स्टे ऑर्डर के मुताबिक, नवम्बर तक लोगों को वहां से हटाया नहीं जा सकता.

    DDA ने अपना काम करना शुरू कर दिया और पुलिस वालों ने अपना. यहाँ न्यू मॉर्निंग की महिला पत्रकार घटना स्थल पर पहुंचकर अपना काम ही कर रही थी कि उसे पुलिस के जुर्म का शिकार होना पड़ा. पुलिस ने प्रीती पर डंडे बरसाए, लाते-घुसे बरसाए. यहाँ तक कि उसे चांटे भी मारे गये. एक महिला होने के बाद उस बुरी तरह से अपमानित किया गया बिना किसी अपराध के.

    इसके बाद शुरू हुआ पुलिस का असली खेल. घटना स्थल पर किसी उपद्रवी ने आग लगा दी जिससे लोग बेकाबू हो गये. इसका ठीकरा भी पुलिस वालों ने प्रीती के सर फोड़ा. पुलिस ने इसी बात का फयेदा उठाकर इस पूरे प्रकरण का इलज़ाम न्यू मॉर्निंग की महिला पत्रकार पर लगा दिया. उसके बाद उसे देशद्रोह और दंगा फ़ैलाने के आरोप में फंसाने के लिए पुलिस ने चालें चलनी शुरू कर दी.

    मारपिटाई के बाद महिला पत्रकार को पुलिस जबरन घसीटकर थाने ले जाती है और अपने जुर्म को छुपाने के लिए उससे एक दस्तावेज पर हस्ताक्षर कराती है. यह हस्ताक्षर भी जबरन कराये जाते हैं यहाँ तक कि पत्रकार को पढ़ने तक नहीं दिया जाता. जाहिर सी बात है उन कागजों में कुछ तो ऐसा जरूर था जो पुलिस ने उसे पढ़ने नहीं दिया.

    इस पूरे प्रकरण में पुलिस का जो चेहरा सामने आया काफी भयानक और निंदनीय है. जिसे हमारी रक्षा का दायित्व सौंपा है वही हम पर प्रहार करे तो अंजाम अंत ही होगा.

    मैं इसकी घोर निंदा करता हूँ और चाहता हूँ कि पुलिस इस मामले पर अपनी जिम्मेदारी समझते हुए आरोपी पुलिस वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाये. क्यूंकि कानून के मुताबिक, किसी भी महिला पर पुरुष पुलिस हाथ नहीं उठा सकता. यहाँ तो महिला और पुरुष दोनों ने मारा है. यहाँ पुलिस दोषी है महिला पत्रकार बेगुनाह.

    इस वीभत्स प्रकरण में पुलिस अपनी जवाबदेही सुनिश्चित करे और आरोपियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाही करे.