बाबा रामदेव के 'पतंजलि' ने अब रेस्टोरेंट बिजनेस में मारी एंट्री, खोला 'पौष्टिक'

2017-04-18_Baba-Ramdev-postik.jpg

देश को स्वदेशी चीजों के उपयोग का पाठ पढ़ाने वाले बाबा रामदेव ने अब नया बिजनेस शुरू किया है. बड़ी-बड़ी कंपनियों को टक्कर देने के लिए बाबा रेस्टोरेंट बिजनेस में भी उतर चुके हैं. बाबा रामदेव के पतंजलि ने चंडीगढ़ में एक रेस्टोरेंट खोला है, जिसका नाम उन्होंने ‘पौष्टिक’ रखा है. ये रेस्टोरेंट पूरी तरह शाकाहारी है. बाबा रामदेव ने अपने बिजनेस को और बढ़ाते हुए लोगों को पौष्टिक आहार परोसने का फैसला किया है.

पतंजलि का कहना है कि इस रेस्टोरेंट में लोगों के देसी अंदाज में खाना परोसा जाएगा. इसी के चलते कंपनी ने इस रेस्टोरेंट का नाम भी एकदम देसी रखा है. रेस्टोरेंट के मेन्यू में कबाब को भी शामिल किया है. इससे पहले आप कुछ गलत सोच लें, तो हम आपको बताते हैं हम यहां लौकी के कबाब की बात कर रहे हैं. अभी इस रेस्टोरेंट का उद्घाटन नहीं हुआ है. योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण इसका उद्घाटन करेंगे.

रेस्टोरेंट में आने वाले लोगों को दिए जाने वाले मेन्यू कार्ड पर आचार्य बालकृष्ण और बाबा रामदेव का फोटो है. जिसमें लोगों को स्वस्थ रहने के टिप्स भी दिए गए हैं. आचार्य बालकृष्ण की ओर से लिखा गया है कि अच्छी सेहत वरदान नहीं है, बल्कि हमारे दिन प्रतिदिन के खान पान पर निर्भर करती है. वहीं, बाबा रामदेव पतंजलि विश्व भर में भारत की प्राचीन धरोहर आयुर्वेद का एंबेसडर हैं. इस नए रेस्टोरेंट में वे सभी पौष्टिक खाने मौजूद रहेंगे.

पौष्टिक रेस्टोरेंट में शाकाहारी खाना ही परोसा जाएगा. साथ ही यहां आने वाले ग्राहकों को आयुर्वेद पद्धति पर खरा उतरने वाला ही खाना मिलेगा. पौष्टिक रेस्टोरेंट की थीम पूरी तरह घरेलू स्टाइल में की गई है. इस रेस्टोरेंट में ज्यादातर चीजें लकड़ी से बनी हुई हैं और बर्तन मिट्टी समेत तांबे के हैं. वहीं, लाइटिंग से लेकर डिजाइन में पतंजलि ब्रांड का कलर झलकता है.

2006 में बनी पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड एक भारतीय FMCG कंपनी है. यह रोज इस्तेमाल होने वाले समान के अलावा हर्बल प्रॉडक्ट्स बनाती है. पतंजलि का रजिस्टर्ड ऑफिर दिल्ली में है लेकिन मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स हरिद्वार में है. साथ ही कंपनी कई राज्यों में फूड पार्क बना रही है. FMCG सेक्टर में कंपनी शुरुआत से ही बड़ी ग्रोथ दर्ज की है.



loading...