Video: दिल्ली में DTC ने किया सुरमई शाम का आयोजन, बेहतरीन सुरों के साथ गुजरी एक और शाम, खाकी वर्दी ने किया मंच का संचालन

Audio: विश्वस्तर पर रिलीज़ हुआ “तुम बिन लागे न जिया”, मिला चाहने वालों का खूब प्यार

‘यार तू प्रोफेशनली क्यूँ नहीं गाता’...सीखें ‘संगीत’ मज़ेदार तरीके से, DTC लाया है शौकिया-उभरते हुए कलाकारों के लिए ‘गोल्डन मेम्बरशिप ऑफर’

राज महाजन की चुनिन्दा धुनों में से एक ‘तुम बिन लागे न जिया’, पहली बार सुनते ही गाने को उतावला हो गया था – लक्की राज

मोक्ष म्यूज़िक लाया है पहली बार इन्फॉर्मेशनल सॉंग, ‘Avoid the Fast Food’ जैसा लज़ीज़ गाना मैंने पहली बार गया है – डिंपल राज

DTC: संगीत सफ़र में छाये रहे राज महाजन के दो सुरीले रत्न “लक्की राज-डिंपल राज”, एक के बाद एक की ‘डायनामाइट परफॉरमेंस’

टैलेंट के कद्रदान राज महाजन को मिला टैलेंट का ओवरडोज़ ‘लक्की राज’, बहुमुखी प्रतिभा के धनी लक्की राज

2016-12-12_dollywoodtalentclub.jpg

सुरों से झिलमिलाती एक शाम और इस शाम में कई फनकारों ने अपना जौहर दिखाया. गानों से सजी इस शाम का संचालन किया आकाशवाणी के सीनियर न्यूज़ एंकर आशुतोश जैन और दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर गिरीश सिंह ने. डॉलीवुड टैलेंट क्लब की इस बेहतरीन शाम के आयोजन का श्रेय जाता है मोक्ष म्युज़िक के कर्ता–धर्ता राज महाजन को. यहाँ राज महाजन के बारे में कुछ कहना ज़रूरी हो जाता है, कलाकार को एक मंच देकर उसे निखारने का काम राज महाजन को बखूबी आता है. इसी बाबत उन्होंने DTC (DOLLYWOOD TALENT CLUB) की नींव रखी. 

इस क्लब से कोई भी जुड़ सकता है. हर उस कलाकार का स्वागत है जिसे खुद में कोई भी प्रतिभा नज़र आती है. ये मंच ऐसे ही कलाकारों में आत्मविश्वास भरने का एक जरिया है. बहरहाल शाम को सुरों से कई प्रतिभाओं ने गुलज़ार किया. मंच का सञ्चालन करने वाले आशुतोष जैन ने जैसे ही “मैं तैनू समझाँवा” की गाया, समा ही बांध दिया. इस गाने में उनके साथ दिया सुनीता महेश्वरी ने. 'मेरा इश्क सूफियाना' गाकर सुनीता महेश्वरी ने प्यार की जुदाई बताई. इसके अलावा इनकम टैक्स ऑफिसर विजय किशोर ने ‘तुम कब आओगे’ गाकर दिल के तार ही छू लिए हों. वहीँ पुलिस ऑफिसर गिरीश सिंह और योगिंदर खोखर ने ‘कहीं दूर जब दिन ढल जाए’ और ‘ये जो मोहब्बत है’ गाकर शाम को अलग ही नशा दे दिया. राजेश कुमार के गाए ‘पुकारता हूँ चला’ ने मीठा सा रस ही गोल दिया हो. जैसे-जैसे शाम बढ़ रही थी वैसे-वैसे नशा भी बढ़ रहा था.

जैसे ही टैलेंट क्लब के मेम्बर शुभम ने तेरी हर अदा गाया वैसे ही लोगों ने वन्स मोर वंस मोर कहना शुरू किया. इसके बाद तो ‘झूम बराबर झूम’ और दिल दा मामला है दिलबर’ ने तो मानो जैसे स्टेज पर आग ही लगा दी हो. इसके बाद मितुल के गाए ‘सतरंगी पिया’ ने दिलों में लगी आग को शांत किया. अरविन्द ने भी ‘सावन में आग’ गाकर खूब तारीफे बटोरीं. इस फेहरिस्त में शैंकी, ऋषभ ने भी अपनी आवाज़ के जादू से ऑडियंस का मन मोह लिया. ‘चोरी-चोरी दिल पर दस्तक’ गाकर सिविल इंजिनियर डी. डी. चौधरी ने शाम में एक चुलबुलाहट पैदा करदी. सुरीले लोगों के साथ शाम कब ढल गयी पता ही नहीं चला. अंत में जाते-जाते राज महाजन ने भी अपने अंदर के सिंगर से ऑडियंस को रूबरू कराया. राज भी ‘मुसाफिर हूँ गाकर’ संगीत निर्देशक से गायक बन ही गये. 

एक नज़र डालते हैं सुरीली शाम की ख़ास झलकियों पर:

  • कलाकार मेहमानों की फेहरिस्त में शामिल थे. विजय किशोर (इनकम टैक्स ऑफिसर), आशुतोष जैन (सीनियर न्यूज़ एंकर, आकाशवाणी), राजेश कुमार (असिस्टेंट कमिश्नर, दिल्ली सरकार), योगिंदर खोखर (इंस्पेक्टर, दिल्ली पुलिस), गिरीश सिंह (इंस्पेक्टर, दिल्ली पुलिस), सुनीता महेश्वरी (आकशवाणी).
  • राज महाजन ने भी यहाँ अपने अंदर के गायक से परिचय कराया.
  • पहली बार खाकी वर्दी ने किया मंच का संचालन.
     



loading...