OMG! 8 लोगों को मारने के आरोप में 4 साल के बच्चे को हुई उम्रकैद

पेरेंट्स जिसे 4 साल तक बेटी समझते रहे वह निकला बेटा, पूरी बात सुनकर चौक जायेंगे आप

इस देश में शादी के बाद 3 दिनों तक दुल्हा-दुल्हन के टॉयलेट जाने पर है रोक, वजह जानकर चौक जायेंगे आप

ग्रेजुएशन की डिग्री लेने के बाद यह लड़की सीधे पहुंची 14 फीट के मगरमच्छ के साथ फोटो खिचाने, तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल

Video: इस महिला ने सुन्दर दिखने के लिए किया यह अजीबोगरीब काम, देखने के बाद लोगों ने की निंदा

गाय के गोबर से नीदरलैंड में बन रही फैशनेबल ड्रेस, स्टार्टअप करने वाली जलिला एसाइदी को मिला अवार्ड

आर्मेनिया में पति ने पत्नी की इस बात को लेकर 23 वर्ष में जमीन के अन्दर बना दिया महल

2018-04-11_char585.jpg

दोस्तों, क्या आपने कभी किसी 4 साल के छोटे बच्चे को उम्र कैद की सजा सुनाए जाने के मामले के बारे में सुना है..? शायद नहीं. इस बारे में सुनकर ही आपको ताज्जुब हो रहा होगा लेकिन यह हकीकत है कि दुनिया में एक कोर्ट ऐसी भी है जिसने एक 4 साल के बालक को उम्रकैद की सजा सुना दी.

जानकारी के मुताबिक , यह कहानी एक 4 साल के मासूम बच्चे मंसूर कुरानी अली की है. आपको यकीन करना मुश्किल हो जाएगा कि महज चार साल के बच्चे पर ऐसे संगीन अपराधों के इल्जाम लगाए गए जिसे दुनिया की शायद ही कोई और अदालत मान सके. इस एक कोर्ट ने न केवल उसे अपराधों के लिए दोषी ठहराया बल्कि उसे उम्र कैद की सजा भी सुनाई. 

बता दें कि यह मामला मिस्र का है. यहां एक कोर्ट ने बच्चे को 4 लोगों की हत्या करने और 8 लोगों को जान से मारने की कोशिश करने व पुलिस को धमकाने के जुर्म में यह सजा सुनाई. जब ये मामला देशवासियों की नजर में आया तो इस फैसले का पुरजोर विरोध किया गया.

लोगों ने सड़कों से लेकर सोशल मीडिया तक कोर्ट के फैसले की कड़ी आलोचना की. सिर्फ इतना ही नहीं, इस मामले पर तमाम बड़े एक्सपर्ट ने भी अपनी राय प्रस्तुत की. इसके बावजूद अदालत एक साल तक फैसले से टस से मस नहीं हुई.

जब यह मुद्दा विश्वव्यापी स्तर पर उठाया गया और मिस्र के कानून की निंदा शुरू हुई तब जाकर कोर्ट ने इस ओर अपना ध्यानाकर्षित किया. अदालत ने दोबारा जांच के आदेश दिए. इसके बाद जब मामले का नया निचोड़ निकलकर सामने आया वह बेहद चौंकाने वाला था. दरअसल, जिन अपराधों के लिए मंसूर नामक इस बालक को 1 साल तक सलाखों के पीछे रखा गया, मालूम चला कि वह अपराध उसने किए ही नहीं थे.

सच तो यह था कि जो आरोप मंसूर पर लगाए गए थे उनकी जांच तक नहीं की गई थी और बिना जांच के ही कोर्ट ने सजा का फरमान सुना दिया. जी हां, दोबारा हुई जांच में मंसूर सभी आरोपों से मुक्त कर दिया गया. मिस्र के अधिकारियों ने स्वीकार किया कि अदालत ने चार वर्षीय इस बच्चे को हत्या के लिए उम्रकैद की सजा सुनाकर भारी भूल की है.

गौरतलब हो मंसूर को मिस्र की कोर्ट ने 2014 के दंगो में भाग लेने के लिए 115 अन्य आरोपियों के साथ दोषी पाया था. इसके लिए उसे एक साल की बेवजह सजा काटनी पड़ी. बाद में इस गलत फैसले के लिए कोर्ट ने मंसूर के पिता से माफी भी मांगी.
 



loading...