लखनऊ में सड़क किनारे मिला IAS अधिकारी का शव

2017-05-17_anurag-tewari.jpg

कर्नाटक कैडर के आईएएस अनुराग तिवारी की यहां संदिग्ध हालात में मौत हो गई। बुधवार सुबह उनकी बॉडी लखनऊ के हजरतगंज में मीराबाई गेस्ट हाउस के पास सड़क पर मिली। वो यहां अपने एक बैचमेट के यहां रुके थे। बताया जात रहा है क‍ि अनुराग सुबह टहलने के ल‍िए निकले थे और ​बुधवार को ही उनका बर्थडे भी था। अनुराग मूल रूप से बहराइच के रहने वाले थे और कर्नाटक में कमिश्नर थे। पुलिस मौत की वजह पता लगाने में जुटी है।

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया, "आज सुबह 6:40 बजे मीरा गेस्ट हाउस से 50 मीटर की दूरी पर एक शख्स की बॉडी पड़े होने की इन्फॉर्मेशन मिली। मौके से मिले आई कार्ड से पता चला कि बॉडी आईएएस अनुराग तिवारी की है। पुलिस मौत की वजह पता करने में जुटी है। डॉक्टर का कहना है कि T I A अटैक होता है, जो किसी भी व्यक्ति को चलते-चलते अचानक पड़ जाता है। इस अटैक में आदमी का दिमागी संतुलन खो जाता है औए वह शोक में चला जाता है। उस समय अगर वह किसी भी स्थान पर गिरता है ताे उसके शरीर मे चोट आती है। हो सकता है क‍ि अनुराग के साथ भी ऐसा हुआ हो। उनकी ठुड्डी पर चोट आई है। पोस्टमोर्टम रिपोर्ट आने के बाद पूरी स्थ‍ित‍ि साफ हो सकेगी।''

अनुराग के पिता बीएन त्रिपाठी बहराइच के एक डिग्री कॉलेज से लेक्चरर की पोस्ट से रिटायर हुए हैं। मां सुशीला तिवारी हाउसवाइफ हैं। दो भाई आलोक और मयंक इंजीनियर हैं। अनुराग की 5 साल पहले कानपुर में शादी हुई थी। बाद में उनका तलाक हो गया।

मसूरी में आईएएस ऑफिसर्स की ट्रेनिंग चल रही है। अनुराग भी उसमें हिस्सा लेने गए थे। छुट्टी मिलने के बाद वे लखनऊ में अपने बैचमेट प्रभु नारायण के यहां रुके थे। अनुराग ने इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग में बीटेक किया था। फिलहाल, वो बेंगलुरु में फूड सिविल सप्लाइज एंड कन्ज्यूमर अफेयर्स डिपार्टमेंट में कमिश्नर थे।



loading...