बाढ़ और बारिश ने उत्तर भारत में मचाई तबाही, 60 लोगों की मौत, 10 लाख लोग प्रभावित

अलकायदा, आईएस के नए संगठनों पर मोदी सरकार ने लगाया प्रतिबंध

नौकरी के नाम पर UP के युवाओं से घाटी में पत्थरबाजी के लिए बनाया दबाव, जान बचाकर लौटे युवक

अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः पीएम मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योगासन, बोले- योग की वजह से भारत से जुड़ी दुनिया

पीएम मोदी ने नमो ऐप पर किसानों को संबोधित किया, कहा- 2022 तक दोगुनी आय करना हमारी सरकार का लक्ष्य

भारत ने कहा- पाकिस्तान से बातचीत को लेकर तीसरे पक्ष का दखल मंजूर नहीं, चीनी राजदूत ने दिया था प्रस्ताव

जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती ने दिया इस्तीफा, राज्यपाल से मिले उमर अब्दुल्ला, कहा- न समर्थन लेंगे और न ही देंगे, जल्द चुनाव हों

2017-07-17_asam54.jpg

उत्तर-पूर्वी मानसून ने उत्तराखंड से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक तबाही मचा रखी है. बारिश और बाढ़ की सबसे अधिक मार असम पर पड़ी हैं, जहां अब तक तकरीबन 60 लोगों के मारे जाने और 10 लाख से भी ज़्यादा लोगों के प्रभावित होने की खबर है.

जानकारी के मुताबिक , बिहार, यूपी, एमपी, महाराष्ट्र और ओडिशा के भी ज़्यादातर इलाके बाढ़ की चपेट में हैं. उत्तरी बिहार में कोसी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है तो ओडिशा और यूपी की भी ज़्यादातर नदियां उफान पर हैं.

बाढ़ और बरसात ने पूरे उड़ीसा में तबाही मचा रखी है. कालाहांडी में नदियों में बहने वाला पानी सैलाब की शक्ल में गलियों और घरों में घुस गया है. जिले में लगातार बारिश होने के चलते आई बाढ़ से रेलवे ओवरब्रिज समेत कई पुल बह गए और इसके अलावा बाढ़ के कारण कई प्रमुख सड़कें भी क्षतिग्रस्त हुई हैं.

अधिकारियों के साथ आपात बैठक करने के बाद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि लगातार बरसात होने से नागाबलि और कल्याणी नदियों का जलस्तर बढ़ गया है और रायगड़ा जिले में कल्याणसिंहपुर प्रखंड और कालाहांडी जिले के कई जगहों पर बाढ़ जैसे हालात हैं. कल्याणसिंहपुर प्रखंड में वायु सेना के हेलीकॉप्टर इस्तेमाल किए जाएंगे जहां लोग डूबे हुए घरों की छतों पर फंसे हुए हैं.

 



loading...