कर्ज से परेशान किसान ने मौत को लगाया गले

2017-07-15_farmer-suicide-in-up.jpg

महोबा ब्यूरो: बुन्देलखण्ड में किसान मृत्यु दर की वारदातें रुकने का नाम ही नहीं ले रही हैं. एक-एक करके किसान अपना दम तोड़ रहे हैं. जिसमें ज़्यादातर किसान कर्ज के बोझ के नीचे दबे हुए हैं. ऐसी ही घटना ग्राम परापान्तर में हुई. बड़े किसान के तमके ने एक और किसान की ली जान.

ग्राम परापांतर के कलुवा पुत्र सुम्मी के तीन पुत्र थे जिसमें बड़े पुत्र महेश के हिस्सा में 10 बीघा जमीन थी. लेकिन जमीन पिता के नाम होने से मुख्यमंत्री की कर्ज माफी योजना से बाहर होने के कारण उसका बैंक का ऋण भी चुकने के कोई आसार नहीं नज़र आ रहे थे. इससे वह चिंता में रहता था. परापांतर ग्राम निवासी महेश पुत्र कलुवा की हार्ट अटैक से मौत हो गयी. महेश पुत्र कलुवा ने विगत माह ही अपने बड़े लडके राजेन्द्र की शादी की थी. जिससे किसान के ऊपर साहूकरों का भी कर्जा हो गया था. किसान को अब अपनी पुत्री नीतू (18)की शादी की चिंता सता रही थी. आखिर कब थमेगा किसानों की मौतों का सिलसिला.



loading...