NEET की परीक्षा कल: साड़ी पहनी-मेहंदी लगायी तो नहीं दे पाएंगे एग्जाम, ड्रेस कोड पर दें ध्यान

2017-05-06_National-Eligibility-cum-Entrance-Test.jpg

देशभर के मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस और डेंटल कोर्स में एडमिशन के लिए सीबीएसई का एन्ट्रेंस एग्जाम नीट 7 मई रविवार को होगा। बोर्ड ने इसके लिए ड्रेस कोड समेत कई दिशानिर्देश जारी किए हैं, जिनका पालन न करने पर एग्जाम देने नहीं दिया जाएगा। सीबीएसई ने नकल पर रोक लगाने के लिए कई तरह के नियम बनाए हैं, जिनमें क्या पहनना है और क्या नहीं, क्या लेकर आना है और क्या नहीं जैसे सुझाव दिए गए हैं। एग्जाम के लिए 103 सेंटर्स बनाए गए हैं।

नीट एग्जाम के लिए सीबीएसई की ओर से ड्रेस कोड के अलावा कई सख्त नियम बनाए गए हैं। गर्ल्‍स स्‍टूडेंट के लिए साड़ी पहनने के साथ-साथ मेहंदी लगाने पर भी रोक है। स्‍टूडेंट हवाई चप्पल या सैंडल, हाफ टी-शर्ट या शर्ट, ट्राउजर, लैगिंग्स, लोअर, प्लाजो, सलवार, हाफ स्लीव्स कुर्ती, टॉप पहनकर एग्‍जाम देने जा सकते हैं। बड़े बटन वाले या फूल-पत्ती वाले कपड़े पहनकर आने पर भी रोक रहेगी।

नीट के लिए सीबीएसई ने इस बार खास पेन तैयार करवाया है। एग्जाम सेंटर में एंट्री के बाद एडमिट कार्ड दिखाने पर यह पेन दिया जाएगा। यह पेन केवल नीट के लिए तैयार कराया गया है। स्टूडेंट बाहर से पेंसिल भी नहीं ला सकेंगे। इस साल नीट एग्जाम अंग्रेजी अलावा नौ अन्य भारतीय भाषाओं में भी होगा। इनमें हिंदी, अंग्रेजी, असमी, बांग्ला, गुजराती, मराठी, कन्‍नड़, ओड़िया, तमिल और तेलुगू शामिल हैं।

एग्जाम देने आने वाली विवाहित महिलाओं को मंगल सूत्र पहनने की छूट रहेगी। लेकिन बुर्का या साड़ी पहनकर आने पर एंट्री नहीं मिलेगी। इस बार नीट के लिए 11 लाख 35 हजार 104 स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया है। पिछले साल की तुलना में 41.42% ज्यादा है। पिछली बार नीट के लिए 8 लाख 2 हजार 594 स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया था।

 ताबीज, ब्रेसलेट पहनने और कृपाण भी अपने पास रखने पर रोक लगाई गई है। इसके अलावा कैंडिडेट पर्स, क्रेडिट-डेबिट कार्ड नहीं ले जा सकेंगे। लॉकेट, जूते, फुल स्लीव्स की शर्ट, घड़ी, धूप वाले चश्मे (गॉगल्स), हेयर क्लिप, रबर बैंड, बेल्ट, चूड़ी पहने होने पर भी परीक्षा हॉल में एंट्री नहीं मिलेगी।



loading...