ताज़ा खबर

SHOCKING! ये शख्स खाता था इंसानों का मांस, कहा- सूअर जैसा होता है टेस्ट

पुलवामा आतंकी हमले को डोनाल्ड ट्रंप ने बताया ‘भयावह’, कहा अच्छा होगा अगर भारत-पाक साथ आ जाएं

पुलवामा हमले पर अमेरिकी का NSA ने कहा- भारत अपनी रक्षा में जो कदम उठाएगा हम उसके साथ है

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लगाई इमरजेंसी, मैक्सिको बोर्डर पर बनाई जाएगी दीवार

अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने पर अड़े डोनाल्ड ट्रंप, जल्द करेंगे आपातकाल की घोषणा

डोनाल्ड ट्रंप ने 'स्टेट ऑफ यूनियन' में अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने का किया वादा, किम जोंग से फिर करेंगे मुलाकात

फर्जी यूनिवर्सिटी मामला: अमेरिका ने कहा- हिरासत में लिए गए 130 छात्रों को पता था कि वे अपराध कर रहे हैं

2017-08-16_meat54.jpg

कोई इंसान दूसरे इंसान का मांस कैसे खा सकता है? लेकिन दुनिया में ऐसे कई लोग हैं, जिन्हें हैवानियत की सारी हदें पार कर इंसानों का मांस खाते हुए पकड़ा गया है. इनमें भी अमेरिकी स्टेट मैरीलैंड के बाल्टिमोर शहर के सीरियल किलर जोसफ रॉय मेथेनी का मामला और भी खौफनाक है. जोसफ न सिर्फ खुद इंसानी मीट खाता था, बल्कि सड़क किनारे पोर्क बताकर दूसरों को भी धोखे से खिलाता था.

जानकारी के मुताबिक , इस सनकी सीरियल किलर की मौत बीते शनिवार को जेल के अंदर हो गई. 2 महिलाओं की हत्या के जुर्म में ये शख्स उम्रकैद की सजा काट रहा था. जोसफ का आतंक बाल्टिमोर शहर में 1990 के दशक में चरम पर था. जोसफ को इंसानों को मार उसका मांस खाना पसंद था. वह न सिर्फ उनका मांस खाता था, बल्कि सूअर के मीट के साथ मिलाकर और लोगों को बेचता भी था.

उसने 1990 के दौर में एक के बाद एक कई मर्डर किए. लेकिन सबूत न होने की वजह से उसे सजा नहीं हो पाई. हालांकि बाद में 2 महिलाओं के मर्डर के केस में वो पुलिस के हाथ लग गया. जब पुलिस ने उससे पूछा कि ये मर्डर उसने क्यों किए, तब जोसफ का जवाब था कि इससे उसे ताकतवर होने का अहसास होता था. उसने पुलिस को बताया कि मर्डर करने के बाद वो मांस को काटकर सड़क के किनारे बेचता भी था.

जोसफ ने बयान में बताया था कि वो बीफ और पोर्क सैंडविच में इंसानी मांस मिला देता था. भूनने के बाद मांस का स्वाद बढ़ जाता था. जोसफ पर 2 महिलाओं के खून का इल्जाम था, लेकिन अपने बयान में उसने 10 से ज्यादा लोगों को मारने का जुर्म कबूल किया था. सुनवाई में उसे अपने किए पर किसी तरह का पछतावा नहीं था. उसने बस अपने किए के लिए फांसी की सजा मांगी थी, जिसे बाद में उम्रकैद में बदल दिया गया था.



loading...