SHOCKING! शादी से पहले पैदा नहीं किया बच्चा तो होता है अशुभ

बिना कपड़ों के गुफा में रहता है यह शख्स, मिलने के लिए देश-विदेश की आती हैं लड़कियां

पेरेंट्स जिसे 4 साल तक बेटी समझते रहे वह निकला बेटा, पूरी बात सुनकर चौक जायेंगे आप

इस देश में शादी के बाद 3 दिनों तक दुल्हा-दुल्हन के टॉयलेट जाने पर है रोक, वजह जानकर चौक जायेंगे आप

ग्रेजुएशन की डिग्री लेने के बाद यह लड़की सीधे पहुंची 14 फीट के मगरमच्छ के साथ फोटो खिचाने, तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल

Video: इस महिला ने सुन्दर दिखने के लिए किया यह अजीबोगरीब काम, देखने के बाद लोगों ने की निंदा

गाय के गोबर से नीदरलैंड में बन रही फैशनेबल ड्रेस, स्टार्टअप करने वाली जलिला एसाइदी को मिला अवार्ड

2018-01-10_ajeeb5.jpg

भारत में शादी के बाद बच्चे पैदा करना वैध माना जाता है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी अनोखी परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां पर शादी के बाद नहीं बल्कि शादी के पहले बच्चे पैदा करना शुभ माना जाता है.

भले ही ये आपको सुनने में थोड़ा अजीब जरूर लगे लेकिन ये परंपरा भारत के ही राज्य राजस्थान में 1000 वर्ष से चली आ रही है. ये परंपरा उदयपुर के सिरोही और पाली में रहने वाली गरासिया जनजाति में निभाई जाती है.

यदि आप इस परंपरा को करीब से देखेंगे तो आपको इसमें आज के लिव इन रिलेशनशिप की झलक जरूर दिखाई देगी. इस जनजाति की परंपरा के मुताबिक लड़के और लड़कियां अपनी रजामंदी से लिव इन में रहते हैं और बच्चे पैदा होने के बाद ही शादी के बंधन में बंधते हैं.

परंपरा के मुताबिक गरासिया जनजाति में 2 दिन का विवाह का खास मेला लगता है. इस मेले में लड़का और लड़की दोनों एक दूसरे को पसंद करते हैं और बिना शादी किए एक साथ रहने लगते हैं. इसके साथ ही बच्चे के जन्म के बाद ही अपनी इच्छानुसार शादी करते है.

गरासिया जनजाति के लोगों की मान्यता के अनुसार कई वर्ष पहले इस जनजाति के 4 भाई कहीं और जाकर रहने लगे. इनमें से 3 ने शादी की और एक लड़का लिव इन में रहने लगा. सिर्फ लिव इन वाले को छोड़कर किसी के बच्चे नहीं हुए तभी से यहां के लोग इस परंपरा का पालन कर रहे हैं. इस परंपरा को 'दापा प्रथा' कहा जाता है.



loading...