पेरिस में सिरफिरे शख्स ने राहगीरों पर चाकू से किया हमला, ब्रिटिश पर्यटकों समेत 7 जख्मी, 4 की हालत नाजुक

पाकिस्तान: गुरूद्वारे के मुख्य ग्रंथी की बेटी को अगवा कर जबरन धर्मं परिवर्तन कराया, परिवार ने इमरान खान से मांगी मदद

भारत से तनाव के बीच पाकिस्तान ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण

पाकिस्तान: बिलावल भुट्टो ने कहा- पहले हम कश्मीर लेने की बात करते थे, अब मुजफ्फराबाद बचाने के लाले पड़े हैं

फ्रांस पहुंचे पीएम मोदी ने राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों से की मुलाकात

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज को नेशनल एकाउंटिबिलिटी ब्यूरो ने किया गिरफ्तार

पाकिस्तान में लगे भारत के समर्थन में पोस्टर, ‘आज जम्मू-कश्मीर लिया है, कल बलूचिस्तान, पीओके भी लेंगे

2018-09-10_parisattack.jpg

पेरिस में रविवार को एक व्यक्ति ने लोगों पर चाकू और लोहे की रॉड से हमला कर दिया. इसमें दो ब्रिटिश पर्यटकों समेत 7 लोग जख्मी हो गए. चार की हालत गंभीर बताई जा रही है. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. वह अफगानिस्तान का नागरिक बताया जा रहा है. पुलिस का कहना है कि फिलहाल हमले को आतंकी घटना करार नहीं दिया जा सकता. एक सिक्योरिटी गार्ड ने बताया कि एक आदमी ने कई लोगों पर हमला किया. जिन लोगों ने उसे रोकना चाहा, उन्हें भी घायल कर दिया. जो आदमी उसे पकड़ने जा रहा था, उसे आरोपी ने रॉड फेंककर मारी.

एक अन्य चश्मदीद यूसेफ नजाह ने बताया- आरोपी नहर के पास से चलकर आया. उसके हाथ में 10-11 इंच का चाकू था. करीब 20 लोग उसे पकड़ने की कोशिश कर रहे थे. पुलिस ने जांच शुरू कर दी है. नजाह के मुताबिक लोगों ने आरोपी को 4-5 बॉल मारीं लेकिन वे उसे रोकने में नाकाम रहे. मैंने ब्रिटिश पर्यटकों से कहा कि आरोपी के हाथ में चाकू है लेकिन उन्होंने अनसुना कर दिया. दोनों घायल हो गए.

पेरिस में बीते महीनों में चाकू से हमले की कई घटनाएं हुई हैं. 23 अगस्त को एक आदमी ने अपनी मां-बहन की हत्या कर दी और एक अन्य को घायल कर दिया. बाद में पुलिस ने उसे गोली मार दी. अगस्त में ही एक अन्य घटना में फ्रांस की नागरिकता चाह रहे एक अफगानिस्तान मूल के व्यक्ति ने पेरिगू शहर में चाकू मारकर चार लोगों को घायल कर दिया था. 17 जून को दक्षिणी फ्रांस के एक शहर में एक महिला ने बाजार में चाकू मारकर दो लोगों को घायल कर दिया. महिला अल्लाहू अकबर के नारे लगा रही थी. 

बीते कुछ सालों में हुए जिहादी हमलों के चलते फ्रांस में हाईअलर्ट जारी किया गया है. हमले उन लोगों द्वारा किए गए जो कट्टरपंथी बन गए या वे आईएस से जुड़े हुए थे. जनवरी 2015 में पेरिस की शार्ली हेब्दो मैगजीन पर हमला हुआ था. इसके बाद से फ्रांस में इस्लामिक कट्टरपंथियों के हमले में 240 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं.



loading...