यूपी-बिहार समेत 4 बीजेपी शासित राज्यों में ATM कैश का संकट, CM योगी ने बुलाई अहम बैठक

2018-04-17_atmcash5.jpg

उत्तर प्रदेश समेत भाजपा शासित 4 प्रदेशों में ATM में कैश का संकट देखने को मिल रहा है. गुजरात, मध्य प्रदेश और बिहार के कई जिलों में तो खास तौर यह नकदी का संकट देखने को मिल रहा है. लोग अपने ही पैसों के लिए दर-दर भटकने को मजबूर हो रहे हैं.

इस बीच, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस संकट को देखते हुए कल एक अहम बैठक बुलाई है.  योगी आदित्यनाथ ने अपने अफसरों को हालात पर नजर रखने के लिए कहा है. 

वहीं, एक बैंक अफसर का कहना है कि रिजर्व बैंक की ओर से नकदी का प्रवाह घटने की वजह से यह हालात पैदा हुए हैं. इसे दूर करने की कोशिश की जा रही है. राज्य सरकारें भी RBI के संपर्क में हैं. 

उधर, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके पीछे साजिश होने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि बाजार से 2000 रुपए के नोट गायब हो रहे हैं. इस बारे में उन्होंने केंद्र सरकार से बात की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इससे सख्ती से निपटेगी.

बिहार की राजधानी पटना में भी कैश की किल्लत हो गई है. सिर्फ एटीएम ही नहीं ग्राहक दावा कर रहे हैं कि बैंक की ब्रांच से भी कैश मिलने में दिक्कत हो रही है. कैश संकट पर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है. तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया, बिहार में विगत कई दिनों से अधिकांश ATM बिल्कुल ख़ाली हैं. लोगों के सामने गंभीर संकट है.लोगों का बैंकों में जमा अपना पैसा भी बैंक जरूरत के हिसाब से उन्हें नहीं दे रहे हैं. नोटबंदी घोटाले का असर इतना व्यापक है कि बैंको ने हाथ खड़े कर रखे है. नए नोट सर्कुलेशन से क्यों गायब हैं?

इस बीच, केंद्रीय वित्त मंत्रालय भी हालात पर नजर रखे हुए है. बिहार और गुजरात में भी ATM में कैश नहीं होने के लोग परेशान है. कुछ लोग इसकी वजह एक-दो दिनों के अवकाश को भी मान रहे है. लेकिन , मंत्रालय भी इससे चिंतित है कि आखिर यह कैश का संकट कैसे पैदा हो गया.

,


loading...