ताज़ा खबर

सबरीमाला मंदिर में 2 महिलाओं ने प्रवेश कर भगवान अयप्पा के किए दर्शन, केरल में हाई अलर्ट

सबरीमाला मंदिर में सबसे पहले एंट्री कर दर्शन करने वाली महिला को सास ने पीटा, हॉस्पिटल में भर्ती

गूगल सर्च में Bad Chief Minister सर्च करने पर आ रहा है केरल के सीएम पिनराई विजयन का नाम, समर्थकों ने RSS पर लगाया आरोप

केरल में सबरीमाला मामले को लेकर हिंसक प्रदर्शन, भाजपा और सीपीआईएम नेता के घर बम से हमला

केरल: सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर प्रदर्शन, झड़प में 1 की मौत, CM ने कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश

कोच्चि में नौसेना बेस पर बड़ा हादसा, एयरक्राफ्ट हैंगर गिरने से दो जवानों की मौत

केरल: 'लव जिहाद' की वजह से चर्चा में आईं हादिया के पिता ने थामा बीजेपी का दामन, सबरीमाला मंदिर पर SC के फैसले का किया विरोध

2019-01-02_Sabarimala-Woman.jpg

नए साल के शुरुआत में ही तिरुवनंतपुरम में दो महिलाओं ने इतिहास रच दिया है. बुधवार सुबह 3:45 मिनट पर दो महिलाओं ने केरल के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश पा लिया. न्यूज़ एजेंसी एनआई के मुताबिक बिंदू और कनकदुर्गा नाम की दो महिलाओं ने मंदिर में घुसकर भगवान अयप्पा के दर्शन किए. दोनों महिलाओं की उम्र 40 वर्ष बतायी जा रही है. बताया जा रहा है कि केरल पुलिस ने दोनों महिलाओं को मंदिर के अंदर प्रवेश पाने में काफी मदद की और आख़िर तक उनके साथ रहे. कुछ पुलिसकर्मी अपने वर्दी में महिलाओं के साथ मौजूद थे तो कुछ सिविल ड्रेस में थे.

केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने दोनों महिलाओं की मंदिर में एंट्री की ख़बर की पुष्टि करते हुए कहा, 'आज दो महिलाओं ने सबरीमाला मंदिर के अंदर जाकर पूजा की है. हमने पुलिस को आदेश दिया था कि अगर कोई महिला मंदिर जाकर पूजा-प्रार्थना करना चाहती है तो उसके लिए सुरक्षा व्यवस्था का पूरा इंतज़ाम किया जाए.'
इन दोनों महिलाओं ने दिसंबर 2018 में भी मंदिर के अंदर घुसने की कोशिश की थी लेकिन ऐसा कर पाने में वो असफल रही थीं. कई महिला कार्यकर्ताओं ने भी मंदिर में प्रवेश की कोशिश की थीं लेकिन भारी विरोध के कारण वे ऐसा नहीं कर पाईं. 

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर को दिए अपने फैसले में कहा था कि सभी उम्र की महिलाओं (पहले 10-50 वर्ष की उम्र की महिलाओं पर बैन था) को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश मिलेगी. वहीं सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर 48 पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई करने के लिए 22 जनवरी की तारीख मुकर्रर की गई है.

अदालत ने कहा था कि महिलाओं का मंदिर में प्रवेश न मिलना उनके मौलिक और संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन है. अदालत की पांच सदस्यीय पीठ में से चार ने सर्वसम्मति से फैसला सुनाया जबकि पीठ में शामिल एकमात्र महिला जस्टिस इंदु मल्होत्रा ने अलग राय रखी थी.



loading...