ताज़ा खबर

सऊदी अरब से भागी 18 साल की लड़की ने कहा- इस्लाम छोड़ दिया है, वापस गई तो घर वाले मेरी जान ले लेंगे

जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए चीन को मनाने में लगे अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस

पुलवामा हमले के आरोपी मसूद अजहर पर फ्रांस का बड़ा कदम, जब्त होंगी सभी संपत्तियां

न्‍यूजीलैंड के क्राइस्‍टचर्च में दो मस्जिदों में अंधाधुंध फायरिंग, कई की मौत, बाल-बाल बची बांग्लादेश क्रिकेट टीम

पाकिस्तान में भी उठने लगी आतंकवाद के खिलाफ आवाज, बेनजीर के बेटे ने इमरान सरकार पर लगाया गंभीर आरोप

जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में चीन ने फिर लगाया अडंगा, UNSC में बैन के प्रस्ताव पर लगाया वीटो

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में चीन ने भारत से फिर मांगे सबूत

2019-01-07_Rahaf.jpg

सऊदी अरब से भागी 18 साल की एक लड़की को बैंकॉक एयरपोर्ट पर हिरासत में रखा गया है. एयरपोर्ट प्रशासन उसे वापस भेज सकता है. हालांकि, लड़की की अपील है कि उसे सऊदी न भेजा जाए. उसका कहना है कि उसने इस्लाम छोड़ा दिया है, इसलिए सऊदी लौटने पर परिवार उसकी हत्या कर सकता है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुनुन कुवैत में अपने परिवार के साथ छुट्टियां मनाने गई थी. यहां से उसने ऑस्ट्रेलिया भागने की योजना बनाई. हालांकि, बैंकॉक एयरपोर्ट पर कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने के दौरान ही उसे हिरासत में ले लिया गया.

कुनुन सोशल मीडिया के जरिए कई दिनों से मदद मांग रही है. कुनुन का कहना है कि उसके पास ऑस्ट्रेलिया का वीजा है, लेकिन बैंकॉक के सुवर्णभूमि एयरपोर्ट पर उतरते ही सऊदी राजनयिक ने उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया. सऊदी अधिकारियों का कहना है कि पासपोर्ट कुनुन के पास ही है. उसे फ्लाइट का रिटर्न टिकट न रखने की वजह से एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया गया है. सोमवार को उन्हें कुवैत वापस भेजा जाएगा, जहां उनका परिवार है.

मामला सामने आने के बाद ह्यूमन राइट्स वॉच ने थाई अधिकारियों से कुनुन को वापस न भेजने की अपील की है. मध्य-पूर्व में संस्था के निदेशक माइकल पेज ने बयान जारी कर कहा, “सऊदी से भागी लड़कियों को लौटने के बाद अपने परिवार और रिश्तेदारों से हिंसा और प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है. मर्जी के खिलाफ वापस भेजे जाने पर उन्हें गंभीर नुकसान हो सकता है.



loading...