झारखंड : 12 साल की रेप विक्टिम को मिली अबॉर्शन की इजाजत, सरकार उठाएगी सारा खर्च

2017-10-16_jharkhand54.jpg

झारखंड हाईकोर्ट ने जमशेदपुर की 12 वर्ष की रेप विक्टिम को अबॉर्शन की इजाजत दे दी है. बच्ची 23 हफ्ते से प्रेग्नेंट है. मंगलवार को रिम्स में डॉ. अनुभा विद्यार्थी की देखरेख में बच्ची का अबॉर्शन किया जाएगा. रिम्स मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट मिलने के बाद इस मामले पर सुनवाई के लिए रविवार शाम साढ़े 6 बजे स्पेशल कोर्ट बैठी और उसने फैसला लिया.

जानकारी के मुताबिक , जस्टिस रंगन मुखोपाध्याय की कोर्ट ने रिपोर्ट देखने के बाद अबॉर्शन कराने का आदेश दिया. जमशेदपुर एसएसपी से कहा कि सोमवार सुबह बच्ची को रिम्स में एडमिट कराएं.

हाईकोर्ट ने कहा कि बच्ची को लाने-ले जाने और घर वालों के रहने का अरेंजमेंट सरकार करे. साथ ही बच्ची के स्वस्थ होने तक उसके इलाज का पूरा खर्च भी वहन करे. इससे पहले विक्टिम को लेकर उसकी मां, वकील ममता सिंह और हेल्थ डिपार्टमेंट के नोडल अफसर उमेश श्रीवास्तव रिम्स पहुंचे.

दोपहर साढ़े 12 बजे रिम्स की मेडिकल बोर्ड बैठी. 2 घंटे जांच चली. पीड़िता का अल्ट्रासाउंड और एक्सरे किया गया. एमजीएम अस्पताल की रिपोर्ट देखी. विक्टिम से भी बातचीत की. फिर सीलबंद रिपोर्ट हाईकोर्ट को सौंप दी.

बता दें कि बच्ची की मां ने हाईकोर्ट से बेटी के अबॉर्शन की इजाजत मांगी थी. पिटीशन में कहा था कि जब वह और उसके पति काम पर चले जाते थे तो ट्रैवल एजेंसी में ड्राइवर उदय गगरई उसकी बेटी से रेप करता था. ड्राइवर बच्ची को धमकी भी देता था कि किसी को इस बारे में बताया तो पिता को मार डालूंगा.

इस संबंध में जमशेदपुर के सिदगोड़ा थाने में 30 अगस्त को FIR दर्ज कराई गई थी. पुलिस ने मेडिकल जांच कराई तो बच्ची के प्रेग्नेंट होने की बात सामने नहीं आई. बाद में पेट दर्द की शिकायत पर जब उसे अस्पताल ले जाया गया तो पता चला कि वह 22 हफ्ते से प्रेग्नेंट है. मां की पिटीशन पर शनिवार को हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. कोर्ट ने रिम्स को मेडिकल बोर्ड बनाकर जांच करने और रविवार को रिपोर्ट सौंपने को कहा था.



loading...